इस वर्ष जन्मे बच्चों का ब्यौरा जुटाएंगी फ्रंट लाइन वर्कर्स

नवम्बर से जनवरी तक छूटे बच्चों का कराया जायेगा टीकाकरण
दस्तक अभियान में कोरोना और संचारी रोगों के बचाव के उपाय और लक्षण के बारे में देंगी जानकारी

देवरिया। स्वास्थ्य विभाग जिले में अक्टूबर माह में बुखार के मरीजों की तलाश और दिमागी बुखार पर नियंत्रण के लिए संचारी रोग नियंत्रण माह और दस्तक अभियान चलाएगा। यह अभियान एक से लेकर 31 अक्टूबर तक चलेगा। कोरोना के दौरान बड़ी संख्या में जो बच्चे टीकाकरण से इससे वंचित रह गए, उन पर अभियान के दौरान खासतौर से जोर होगा। इस वर्ष जन्म लेने वाले बच्चों का अक्टूबर में व्यापक अभियान चलाकर आशा, एएनएम और आंगनबाड़ी ब्योरा जुटाएगी और नवम्बर से जनवरी तक इन सभी बच्चों का टीकाकरण कराया जाएगा।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डा. आलोक पांडेय ने बताया कि जब से कोरोना प्रारम्भ हुआ, तब से बहुत बच्चे टीकाकरण से छूट गए। इसलिए 01 अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक संचारी रोगों की रोकथाम के लिए चलने वाले दस्तक अभियान में इस पर भी काम किया जाएगा। इस दौरान आशा वर्कर और आगंनबाड़ी कार्यकत्रियां कोविड 19 प्रोटोकॉल के तहत घर-घर जाकर लोगों को डेंगू, चिकनगुनिया, जेई,एईएस आदि संचारी रोगों के प्रति जागरूक करेंगी। कोरोना के लक्षण वाले संभावित मरीजों की जानकारी जुटाएंगी। वह लोग टीकाकरण से वंचित रह जाने वाले बच्चों की भी पूरी सूची तैयार करेंगी। इस तरह १५ दिनों में जनपद में इस वर्ष जन्म लेने वाले बच्चों की खोजबीन करते हुए उनका ब्योरा जुटाया जाएगा।
उन्होने बताया कि जनपद में नवजात बच्चो के टीकाकरण की कार्रवाई बेहद अहम है, क्योंकि इसकी बदौलत यह कई गम्भीर बीमारियों से सुरक्षित रहते हैं। इसलिए अक्टूबर में टीकाकरण से वंचित बच्चों की पूरी जानकारी एकत्र होने के बाद नवम्बर से तीन महीनों तक अभियान चलाया जाएगा। इसमें सभी बच्चों का टीकाकरण सुनिश्चित कराया जाएगा। इस दौरान नियमित टीकाकरण से लेकर जरूरत के मुताबिक बूस्टर की डोज भी दी जाएगी। उन्होंने बताया दस्तक अभियान के तहत आशा और एएनएम घर घर जाकर बुखार और सांस की तकलीफ से पीड़ित लोगों की पहचान करेंगी। अभियान में स्वास्थ्य विभाग, नगर विकास, पंचायती राज, पशुपालन विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, शिक्षा विभाग, दिव्यांग जन कल्याण विभाग, कृषि एवं सिंचाई विभाग समन्वय बना कर कार्य करेंगे।

होगा सफाई कार्य और दवा का होगा छिड़काव

संचारी रोग नियंत्रण माह और दस्तक अभियान के तहत आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता उन क्षेत्रों को चिह्नित करेंगी जहां सफाई व्यवस्था खराब होगी। उनकी रिपोर्ट पर विशेष सफाई अभियान चलाया जाएगा। जलभराव वाले स्थानों पर एंटी लार्वा का छिड़काव होगा और फागिंग भी कराई जाएगी।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

Sorry, there are no polls available at the moment.

Related Articles

Back to top button
Close
Close