हमारी फिल्म महिलाओं पर होगा…

मुंबई। अभिनय के साथ ही सिनेमा की अन्य विधाओं में अपने लिए विकल्प तलाशने वाले सितारों में रिचा चड्ढा का नाम भी जुड़ गया है। रिचा ने बतौर निर्माता अपनी फिल्म ‘गल्र्स विल बी गल्र्स’ की घोषणा की है। रिचा चड्ढा ने फिल्म निर्माण के क्षेत्र में कदम रखने के साथ ही यह भी तय कर लिया है कि उनकी फिल्म के सेट पर पूरा महिलाओं का होगा। रिचा इसके जरिए कई बातें कहना चाहती हैं, जो उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में अनुभव किया है। वह कहती हैं कि भगवान ने मुझे दिमाग दिया है। मैं उसका इस्तेमाल कर रही हूं। अगर मुझे लेखन आता है, नाच-गाना आता है तो मैं वह करूंगी। जब मैं फिल्म इंडस्ट्री में आई थी, तब मुझे एक डिब्बे में डाल दिया गया।
इंडिपेंडेंट सिनेमा बनाने वाले कई लोगों ने मुझसे कहा कि तुम कुर्ते में क्यों नहीं नजर आती हो, जींस क्यों पहनती हो। खैर, उनकी अपनी दिक्कतें हैं, उनका दिमाग महिलाओं को लेकर इससे आगे सोच नहीं पाता है। मैं काफी ऊब गई हूं इस तरह के लोगों के दिमाग और स्टीरियोटाइप किए जाने से, इसलिए मैंने खुद कंटेंट क्रिएट करने के बारे में सोचा।’ हम कुछ युवा कलाकारों के साथ काम करेंगे। सेट पर महिलाओं या लड़कियों को लेकर जो धारणा होती है कि वो फलां तरीके से उठेंगी, बैठेंगी, ऐसे कपड़े पहनकर आएंगी, अलग-अलग क्रू के लिए अलग खाना लगेगा। इस तरह की चीजें मैं अपने सेट पर नहीं चाहती हूं। सेट पर जो लड़कियां होंगी, उन्हें यह नहीं सोचना होगा कि मुझे कैसे बर्ताव करना है। मैं चाहती हूं कि वे सेट पर एक सेकेंड के लिए भी असहज न हों कि कोई उन्हें देख रहा है। मैंने ये चीजें खुद अनुभव की हैं, इसलिए मैं उन्हें इतना सुरक्षित मौहाल देना चाहती हूं कि वह स्वतंत्र महसूस करें, फिर चाहे वे किसी भी डिपार्टमेंट से हों। खुलकर हंसें, गाएं, खाएं, जो मन आए करें।