बारिश में फरियादियों को देखकर अफसरों से सीएम बोले- देखिए कोई भींगने न पाए

 

गोरखपुर। एक तरफ बारिश हो रही थी तो दूसरी और अपनी समस्या के निस्तारण के लिए गोरखनाथ मंदिर के हिंदू सेवाश्रम में लोगों के आने का सिलसिला जारी था। सुबह के साढ़े छह बजते-बजते सेवाश्रम में लगी सभी कुर्सियां भर गई तो बाकी लोगों को यात्री निवास में बैठाया गया। साढ़े सात बजे तक दोनों स्थानों को मिलाकर करीब 300 लोग इकठ्ठा हो चुके थे।
अब इंतजार था मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के आने का। इसकी जानकारी जब मुख्यमंत्री को हुई तो वह परेशान हो गए। बारिश की वजह से उन्हें हिंदू सेवाश्रम पहुंचने में देर हुई तो उन्होंने तत्काल डीएम, एसएसपी और मुख्यमंत्री कैंप कार्यालय प्रभारी मोती लाल सिंह को लोगों की समस्या सुनने और उससे जुड़ा आवेदन पत्र लेने को भेजा। साथ ही यह भी हिदायत दी कि समस्या लेकर आने वाला कोई भी बारिश में भीगे नहीं, यह सुनिश्चित करें। बारिश बंद होने के बाद लोगों से जाने का आग्रह करें।
जनता दर्शन में लोगों की समस्या सुनने के लिए मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को भेजा
मुख्यमंत्री के निर्देश पर अधिकारी हिंदू सेवाश्रम पहुंचे और बारी-बारी से हर महिला और पुरुष की समस्या सुनी और समाधान का आश्वासन दिया। बाद में मुख्यमंत्री का मन नहीं माना और वह खुद भी जनता दर्शन के लिए पहुंच गए। मुख्यमंत्री को देख वहां बैठे लोगों के चेहरे पर समस्या समाधान को लेकर उम्मीद जग गई। अधिकारियों को अपना आवेदन पत्र दे चुके लोगों से मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी की समस्या उन तक पहुंच जाएगी और उनके समाधान की हर संभव कोशिश की जाएगी। मुख्यमंत्री से आश्वासन लेकर लोग खुशी मन से घर को लौटे। हमेशा की तरह शुक्रवार को भी जनता दर्शन में पुरुषों के मुकाबले महिलाओं की संख्या ज्यादा रही। साथ भूमि विवाद और पुलिस से जुड़े मामले अधिक संख्या में आए।