कुलपति के विरूद्ध सत्याग्रह में शामिल प्रोफेसरों का कटेगा वेतन

गोरखपुर। प्रो. कमलेश गुप्त के सत्याग्रह में शामिल होने वाले सात प्रोफेसरों के शामिल होने और प्रशासनिक भवन में उनके साथ धरने पर बैठने को दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय प्रशासन ने गंभीरता से लिया है। विश्वविद्यालय के ओर से सभी सात प्रोफेसरों का एक दिन का वेतन काटने का निर्णय लिया गया है। कुलपति के निर्देश पर कुलसचिव ने इस बाबत आदेश जारी कर दिया। यह सभी प्रोफेसर हिंदी विभाग के निलंबित आचार्य प्रो. कमलेश गुप्त के सत्याग्रह का समर्थन कर रहे थे और 21 दिसंबर को उनके साथ धरने पर बैठे थे।
कुलपति को हटाने की मांग लेकर प्रोफेसर ने खोला है मोर्चा
कुलपति प्रो. राजेश सिंह को हटाने और उनके कार्यकाल में आय और व्यय की जांच की मांग को लेकर प्रो. कमलेश गुप्त ने मोर्चा खोल रखा है। इसके लिए उन्होंने सत्याग्रह शुरू किया और धरने पर बैठे। इंटरनेट मीडिया पर इसे लेकर अभियान छेड़ा। इसका संज्ञान लेते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन ने उन्हें निलंबित कर दिया। साथ ही उनके समर्थन में धरने पर बैठने वाले सात शिक्षकों के वेतन काटने को लेकर कारण बताओ नोटिस जारी किया था। उसी क्रम में विश्वविद्यालय प्रशासन ने अब उस निर्णय को अमल लाने का आदेश जारी किया है।