बाबा गोरखनाथ को कल खिचड़ी चढ़ाएंगे गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ

मकर संक्रांति कल, बुधादित्य योग है विशेष फलदायी, इस विशेष मुहूर्त में करें स्नान और दान
गोरखपुर। माघ मास का दूसरा प्रमुख स्नान पर्व मकर संक्रांति 15 जनवरी यानी बुधवार को श्रद्धा, उल्लास के साथ मनाया जाएगा। इसी दिन लाखों श्रद्धालु गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती के मिलन स्थल संगम में पुण्य की कामना के साथ डुबकी लगाएंगे। संगम स्नान के बाद तिल, खिचड़ी, अन्न, द्रव्य आदि दान करेंगे। दान के साथ भगवान भाष्कर का पूजन-अर्चन कर सुख-समृद्धि की कामना करेंगे। ज्योतिषीयों की माने तो बुधवार को सूर्य देव धनु राशि को छोडक़र मकर राशि में प्रवेश करेंगे। इसी दिन उत्सवधर्मिता का प्रतीक खिचड़ी पर्व परंपरागत रूप से मनाया जाएगा। सूर्यदेव के मकर राशि में प्रवेश के साथ खरमास खत्म हो जाएगा। मकर संक्रांति पर शोभन योग का विशेष संयोग फलदायी रहेगा। इस पर्व को लेकर जहां पुलिस प्रशासन पूरी तरह से सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ते इंतजाम कर लिए हैं वहीं देश-विदेश से आए श्रद्धालु बाबा गोरखनाथ को खिचड़ी चढ़ाने के लिए तैयार हैं। खिचड़ी पर्व पर गोरखनाथ में लगभग एक महीने का मेला लगता है। बाबा गोरखनाथ को खिचड़ी चढ़ाने के लिए मंदिर में आज ही से अच्छी खासी भीड़ जुटनी शुरू हो गई है वहीं सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ भी गोरखपुर तीन दिवसीय यात्रा पर आ गए हैं। गोरखनाथ के पीठाधीश्वर के साथ-साथ सूबे के सीएम हैं योगी आदित्यनाथ। बाबा गोरखनाथ को खिचड़ी चढ़ाने की बहुत पुरानी परंपरा हैं लोगों की माने तो यहां त्रेता युग से बाबा गोरखनाथ को खिचड़ी चढ़ाया जाता है। यहां पर गोरखनाथ मंदिर के हिसाब से ही मकर संक्रांति का पर्व मनाया जाता है।

सुरक्षा व्यवस्था के किए गए पुख्ते इंतजाम: बाबा गोरखनाथ को खिचड़ी चढ़ाने के लिए दूर दराज से लोग आते हैं। ऐसे में यहां की भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस प्रशासन पूरी मुस्तैदी से लगा हुआ है। हालांकि खिचड़ी मेले की तैयारी को डीएम और एसएसपी ने निरीक्षण भी किया है कि इस व्यवस्था में कहीं कोई खामी न आए जिसको लेकर प्रशासन सतर्क हैं।

मुंडन का खास महत्व: माघ मेले में आने वाले श्रद्धालु प्रयाग में मुंडन जरूर कराते हैं। मान्यता है कि गया पिंडदान, कुरुक्षेत्र में दान, काशी में देह त्याग और प्रयाग में मुंडन (क्षौर कर्म)कराने का सनातन विधान है। शास्त्रों में कहा गया है कि यदि प्रयाग में मुंडन न कराया गया तो शेष तीनों तीर्थों पर किए गए सारे कर्मकांड व्यर्थ हो जाते हैं। मुंडन के बाद संगम में स्नान करने के समस्त फल की प्राप्ति होती है।
दान का महत्व: प्रयाग में दान की सदियों से विशिष्ट परंपरा रही है। सम्राट हर्षवर्धन ने संगम में सर्वस्व दान कर दिया था। यहां दान देने से अक्षयफल प्राप्त होता है। शास्त्रों के अनुसार यह देवताओं की संस्कार की हुई भूमि है। यहां दिया हुआ थोड़ा सा दान भी महान होता है।

तिल का प्रयोग, सूर्य का पूजन
मकर संक्रांति के दिन सूर्य चालीसा, सूर्य सहस्त्रनाम, आदित्य हृदय स्त्रोत सूर्य मंत्रादि का पाठ करना चाहिए। इस दिन पानी में तिल डालकर नहाना, उबटन लगाना, तिल युक्त जल से पितरों को तर्पण करना, अग्नि में तिल का होम करना, तिल का दान करना और तिल का सेवन करना फलदायी माना गया है।

स्नान, दान का शुभ मुहूर्त
उत्थान ज्योतिष संस्थान के निदेशक पं. दिवाकर त्रिपाठी ‘पूर्वांचली’ के अनुसार 15 जनवरी, बुधवार को मकर राशि की संक्रांति सुबह 7:54 बजे से होगी। इस दिन स्नान, दान का शुभ मुहूर्त सूर्योदय से सूर्यास्त तक रहेगा। इस दिन शोभन योग, स्थिर योग के साथ गुरु और मंगल स्वराशि में रहेंगे। साथ ही बुधादित्य योग फलदायी रहेगा। ज्योतिषाचार्य पं रामानुज शास्त्री के अनुसार सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने से धन्य-धान्य में वृद्धि होगी। इस दिन गंगा स्नान से अनजाने में किए गए पापों से भी मुक्ति मिल जाती है।
सूर्यदेव के मकर राशि में प्रवेश के साथ ही 16 दिसंबर से चले आ रहे खरमास का समापन हो जाएगा। इसी दिन से शादी-विवाह समेत मांगलिक कार्य शुरू हो जाएंगे।

उत्तरायण होंगे सूर्य
ज्योतिष शास्त्र में सक्रांति का शाब्दिक अर्थ सूर्य या किसी भी ग्रह का एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश या संक्रमण कहा जाता है। मकर संक्रांति भगवान सूर्य के दक्षिणायन से उत्तरायण होने का संधि काल है। उत्तरायण में सूर्य का प्रभाव अधिक होता है और इसे देवताओं का दिन माना जाता है।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close