मां ने गला घोंटकर की मासूम की हत्या

गोरखपुर। बेलीपार थाना क्षेत्र के ग्राम भीटी में अनिकेत की हत्या उसकी मां मनोरमा ने ही की थी। वह अपने दिव्यांग बेटे की परवरिश को लेकर तंग थी। बेटे को मारने के लिए मौका ढूंढ रही थी। उसने उसे मारने के लिए कई बार प्रयत्न किया लेकिन उसे सफलता नहीं मिल सकी। भीटी अपने मायके में अवसर देखकर उसने अपने इकलौते पुत्र को पानी की टंकी में डालकर हत्या कर दिया और उसका आरोप अपनी दोनों बड़ी बहनों व पिता अंधन सिंह पर लगा दिया था। बेलीपार पुलिस उसे हिरासत में लेकर पूछताछ में जुटी हुई है।
मिली जानकारी के मुताबिक अनिकेत की हत्या को लेकर पुलिस को पहले से ही संदेह था कि यह कार्य परिवार के ही सदस्य का किया हुआ है लेकिन यह स्पष्ट नहीं हो पा रहा था कि हत्या की किसने है। अनिकेत की मां व गगहा थाना क्षेत्र के ग्राम जगदीशपुर भलुआन निवासिनी मनोरमा पुलिस को दिये गए बयान में लगातार अपनी बातें बदल रही थी। पुलिस को उस पर थोड़ा संदेह हुआ तो उसे कड़ाई से पूछताछ की तो वह टूट गई। मनोरमा ने पुलिस को बताया कि वह तो दूसरा बच्चा चाहती ही नहीं थी। इसलिए अनिकेत जब गर्भ में था, तभी उसने गर्भपात के लिए दवाएं खा लिया था। इन दवाओं से अनिकेत की मौत तो नहीं हुई, लेकिन जन्म के बाद उसमें तमाम प्रकार की विकृतियां आ गईं। उसे सुनाई कम पड़ता था। वह मानसिक रूप से भी कमजोर था। दौडक़र अक्सर सडक़ पर चला जाता था।
मनोरमा के लिए समस्या थी कि वह घर संभाले या बच्चे को। उसका कहना था कि बच्चे को संभालने में उसे इतनी कठिनाई आ रही थी कि वह उसे कहीं लेकर जा नहीं सकती थी। ऐसे में जब वह पति के साथ मायके गई तो उसने तभी ठान लिया था कि वह उसकी हत्या कर देगी। ऐसे में अनिकेत के सोने के बाद वह उसे लेकर छत पर गई और पानी की टंकी में उसे डालकर ढक्कन बंद कर दिया।
मनोरमा की मां अधराजी देवी व उसकी बड़ी बहन शशि व वंदना को पहले ही मनोरमा पर संदेह था। इससे बचने के लिए उसने उन पर आरोप लगा दिया था। मनोरमा की बड़ी बहन शशि के मुताबिक मनोरमा ने बच्चे को जब पानी की टंकी में डाला तो धम्म से आवाज हुई। घर में आवाज को लेकर पूछताछ शुरू हुई तो मनोरमा जल्दबाजी में टंकी का टक्कन बंद करके नीचे चली आई। उसे किसी ने छत से आते नहीं देखा और बाद में उसने बेटे के गायब होने का नाटक शुरू कर दिया।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

Sorry, there are no polls available at the moment.

Related Articles

Back to top button
Close
Close