जहरीली शराब से रायबरेली में अब तक 10 की मौत

आबकारी इंस्पेक्टर, सिपाही सस्पेंड

लखनऊ। रायबरेली में जहरीली शराब पीने से अब तक 10 लोगों की मौत हो चुकी है। मंगलवार को जहां चार लोगों की मौत हुई बुधवार दोपहर तक यह संख्या बढक़र दस हो गई। हालांकि पुलिस, जहरीली शराब से सिर्फ छह मौतें होने की ही पुष्टि कर रही है।
जहरीली शराब से मौतों का सिलसिला मंगलवार रात से बुधवार सुबह तक चलता रहा। पहले चार लोग मरे, लेकिन अब संख्या दस पहुंच चुकी है। उधर पुलिस जहरीली शराब से सिर्फ छह मौतें होने की ही पुष्टि कर रही है। बुधवार की सुबह नौ बजे के करीब आइजी लक्ष्मी सिंह मामले की जांच करने पहुंची और आरोपितों पर कड़ी कार्रवाई की बात कही। मामले में जिले के आबकारी इंस्पेक्टर अजय कुमार और सिपाही धीरेंद्र श्रीवास्तव सस्पेंड कर दिए गये हैं। यह पूरा मामला महराजगंज के पहाड़पुर देसी शराब के ठेके से जुड़ा बताया जा रहा है। इसी गांव की सुखरानी के घर सोमवार को बेटी का बरहंव कार्यक्रम था। जिसमें बड़ी संख्या में लोगों ने देसी शराब पी। बुधवार की सुबह इसी शराब के सेवन से पहाड़पुर गांव के सरोज की गांव में ही मौत हो गई। सुखरानी और राम सुमेर की महराजगंज सीएचसी और बंशी की जिला अस्पताल में सांसें थम गईं। मौतों का सिलसिला बदस्तूर जारी रहा। सुखरानी के रिश्तेदार बहादुर नगर निवासी कल्लू और लोधवामऊ के बचई की उनके घरों में ही मौत हो गई। पहाड़पुर के चंद्रपाल की जिला अस्पताल में सांसें थम गईं। इनके अलावा थुलवासा में भ_े पर काम करने वाले रामबाबू और कासिम, नहर विभाग में काम करने वाले पहाड़पुर निवासी पंकज सिंह की भी जिला अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। इन सभी ने इसी ठेके से शराब खरीदकर पी थी, ऐसा ग्रामीणों का कहना है। पुलिस अभी सिर्फ छह लोगों की जहरीली शराब से मौत होने की बात कह रही है, लेकिन उनका नाम अब तक उजागर नहीं किया गया है। इन सभी लोगों का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। पहाड़पुर देसी शराब का ठेका पूरे पोदराम सिंह निवासी धीरेंद्र सिंह के नाम है। आइजी लक्ष्मी सिंह ने उसके घर पर दबिश देकर छानबीन की। उन्होंने बताया कि ठेकेदार और सेल्समैन के खिलाफ केस दर्ज करा दिया गया है। दोनों की तलाश की जा रही है। घटना की सूचना मिलते ही पूरा गांव मंगलवार की रात से छावनी में बदल गया है। लखनऊ मंडल के मंडलायुक्त, आइजी लक्ष्मी सिंह, जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव, पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार सहित पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी बुधवार को भी गांव में कैंप किए हुए हैं।