तमिलनाडु में एनईईटी परीक्षा में छूट देने संबंधी विधेयक वापस

नई दिल्ली। तमिलनाडु में नीट परीक्षा को लेकर सियासत में गर्मी बढ़ती जा रही है। राज्य में राज्यपाल आर एन रवि द्वारा एनईईटी परीक्षा में छूट देने से संबंधी विधेयक को वापस करने के बाद राजनीतिक गलियारों में हलचल मच गई है। इस बीच, तमिलनाडु मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने एक सर्वदलीय बैठक बुलाई, जिसमें भाजपा और भाग लेने से साफ इनकार कर दिया है। राज्य के भाजपा प्रदेश प्रमुख के. अन्नामलाई ने इस बैठक को लेकर सरकार पर तमाम सवाल उठाये हैं। उन्होंने कहा कि सत्तारूढ़ का उद्देश्य इस मुद्दे पर राजनीति करना है।
राज्य के भाजपा प्रदेश प्रमुख के. अन्नामलाई ने कहा
राज्य के भाजपा प्रदेश प्रमुख के. अन्नामलाई ने तमिलनाडु मुख्यमंत्री एमके स्टालिन से पत्र को लेकर जवाब मांगा है। उन्होंने कहा, मुख्यमंत्री जब तक आप पत्र का जवाब नहीं देते और पत्र जारी नहीं करते, भाजपा सर्वदलीय बैठक (6 फरवरी को) में भाग नहीं लेगी। सामाजिक न्याय, पिछड़ापन, सब कुछ सुप्रीम कोर्ट ने वेल्लोर मामले में ही परखा था। आप किसे मूर्ख बनाने की कोशिश कर रहे हैं?
तमिल नाडु सीएम एमके स्टालिन ने कहा
राजनीतिक गलियारों में मचे शोर के बाद तमिलनाडु सीएम एमके स्टालिन का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा, मैंने पहले सर्वदलीय बैठक बुलाई थी और मैं नीट परीक्षा के मुद्दे पर राज्यपाल से मिला, जिसमें छूट के लिए एक प्रस्ताव पारित किया गया था। मैंने वर्चुअल मीटिंग में पीएम से भी अपील की थी, जब उन्होंने 11 नए मेडिकल कालेज खोले।