कांग्रेस प्रत्याशी चेतना का नामांकन पत्र खारिज

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ मैदान में उतरीं कांग्रेस की प्रत्याशी को बड़ा झटका लगा है। पहली बार विधानसभा का चुनाव लड़ रहे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ मुकाबले में उतरने वाली कांग्रेस प्रत्याशी डॉ चेतना पाïण्डेय का नामांकन पत्र खारिज हो गया है। गोरखपुर शहर से सीट पर सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ खड़ीं कांग्रेस की प्रत्याशी चेतना पाण्डेय का नामांकन पत्र खारिज हो गया है। नामांकन पत्र खारिज होने के बाद चेतना पाण्डेय पक्षपात का आरोप लगाकर कलेक्ट्रेट के बाहर धरने पर बैठीं थीं। निर्दलीय विधानसभा चुनाव भी लड़ चुकी हैं। वह गोविवि छात्रसंघ की पूर्व उपाध्यक्ष भी हैं। इसी कारण सीएम योगी आदित्यनाथ को घेरने के लिए कांग्रेस ने अपना प्रत्याशी बनाया है। सपा ने मुख्यमंत्री के करीबी रहे भाजपा नेता स्व उपेन्द्र दत्त की पत्नी सुभावती शुक्ला को मैदान में उतारा है। कांग्रेस की घोषित प्रत्याशी चेतना पाण्डेय सामाजिक क्षेत्र में सक्रिय हैं। इससे पहले 2017 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने सहजनवां निर्वाचन क्षेत्र से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा था। इस दौरान उन्हें 2200 वोट ही मिले थे। चेतना पाण्डेय ने 2019 में कांग्रेस की सदस्यता ली थी। राजनीति में सक्रिय होने के साथ वह कवियत्री, तबला वादक और पत्रकार भी है। पिछले काफी समय से गोरखपुर जोन के 11 जिलों में समाज सेवा और महिलाओं के लिए काम कर रही है।