5-12 साल के बच्चों में को मिल सकती है वैक्सीन

 

नई दिल्ली। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण एक अहम हथियार बना हुआ। भारत में टीकाकरण अभियान के तहत सैकड़ों लोगों को कोविड-19 वैक्सीन दी जा चुकी है। वहीं देश की तीसरी स्वदेशी कविड-19 कोर्बेवैक्स वैक्सीन, जो कि एक प्रोटीन बेस्ड वैक्सीन है। उसे हैदराबाद स्थित दवा कंपनी बायोलाजिकल ई ने 5-12 वर्ष आयु वर्ग वाले बच्चों के लिए, आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण के लिए आवेदन किया है। आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को इस बात की जानकारी दी।
्रआधिकारिक सूत्रों ने दी जानकारी: सूत्रों ने बताया कि दवा कंपनी ने 5-12 साल की उम्र के लाभार्थियों के लिए विषय विशेषज्ञ समिति को डेटा पेश किया है। बता दें कि हाल ही में, विषय विशेषज्ञ समिति ने कुछ शर्तों के तहत 12 से 18 वर्ष की आयु के लिए जैविक ई के कोविड-19 वैक्सीन के लिए आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण की सिफारिश की, जिसकी भारत के ड्रग कंट्रोलर द्वारा जल्द ही कोर्बेवैक्स को अंतिम आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण देने की उम्मीद जताई है। 5-12 साल के इस समूह के बीच, सुरक्षा और इम्युनोजेनेसिटी डेटा को देखने के बाद ही ईयूए की सिफारिश की। सूत्रों ने बताया कि केंद्र सरकार पहले से ही लगभग 5 करोड़ बायोलाजिकल ई वैक्सीन कार्बेवैक्स खरीद चुकी है, जिन्हें कुछ राज्यों में पहुंचा भी जा चूका है। वैक्सीन बनाने वाली कंपनी बायोलाजिकल ई ने पिछले साल सितंबर 2021 में दूसरे चरण और तीसरे चरण के क्लिनिकल परीक्षण के लिए आवेदन किया था। भारत में कोरोना वायरस की तीसरी लहर लगातार कम होती नजर आ रही है, बुधवार को स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने सूचना दी कि भारत ने पिछले 24 घंटों में नए कोविड ????-19 के 4,575 मामले दर्ज किए गए हैं। इसके अलावा मंत्रालय ने आज सुबह 7 बजे तक की रिपोर्ट के आधार पर बताया, पिछले 24 घंटों में 18.69 लाख से अधिक खुराक (18,69,103) वैक्सीन खुराक प्रशासित किए गए हैं। इसके साथ, भारत का कोविड-19 टीकाकरण कवरेज अनंतिम के अनुसार, 179.33 करोड़ (1,79,33,99,555) से अधिक हो गया है।