उत्तर प्रदेश के चुनाव परिणाम में दिखाई दे रहा मोदी-योगी फैक्टर का जोर

 

नई दिल्ली । उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 के नतीजे धीरे-धीरे साफ होते जा रहे हैं। अब तक की तस्वीर इस बात का साफतौर पर संकेत दे रही है कि इस चुनाव में भारतीय जनता पार्टी एक बार फिर से सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर सामने आ रही है। हालांकि पिछली बार के मुकाबले भारतीय जनता पार्टी को कुछ सीटों पर नुकसान होता भी दिखाई दे रहा है। इसके बावजूद भी भाजपा की सूबे में सरकार का बनना अब तय माना जा रहा है। आपको बता दें कि यूपी में दोबारा से भाजपा की सरकार का बनना काफी हद तक तय ही माना जा रहा था।
कुछ सीटों पर मिली सपा से टक्कर
इस चुनाव में भाजपा को समाजवादी पार्टी और उसके गठबंधन से कई सीटों पर जबरदस्त टक्कर देखने को मिल रही है। इसके बावजूद सूबे के लोगों ने भाजपा पर दोबारा विश्वास जताकर ये साफ कर दिया है कि मोदी है तो मुमकिन है। सूबे की जनता ने न केवल पीएम नरेन्द्र मोदी पर भरोसा जताया है बल्कि सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी पूरे नंबर से पास होते दिखाई दे रहे हैं। यहां पर ये जानना काफी खास है कि वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में भाजपा सूबे में तीसरे नंबर की पार्टी हुआ करती थी, जो 2017 के चुनाव में जबरदस्त बढ़त के साथ उभरी और सूबे की सबसे बड़ी पार्टी बनी थी। पिछले चुनाव में पार्टी को करीब 40 फीसद वोट मिले थे।

मोदी-योगी बड़ा फैक्टर
इस चुनाव में मोदी योगी का फैक्टर सबसे बड़ा रहा है। बता दें कि यूपी चुनाव की तैयारी पार्टी ने एक वर्ष पहले ही शुरू कर दी थी। चुनाव की घोषणा होने से काफी समय पहले ही पार्टी ने यहां पर अपनी कैंपेन भी शुरू कर दी थी। इस फायदा भी भाजपा को मिला है। भाजपा का चुनाव प्रचार काफी तेज रहा है।
मोदी योगी की ताबड़तोड़ रैलियां
इस चुनाव की कैंपेनिंग के लिए खुद सीएम योगी आदित्?यनाथ ने करीब 203 रैलियां और रोड़ शो किए थे। वहीं पीएम मोदी ने सूबे में करीब 28 रैलियां और रोड़ शो किए थे। इनके अलावा सपा मुखिया अखिलेश यादव ने सूबे में 131 और प्रियंका गांधी ने 209 रैलियां और रोड़ शो किए थे। यूपी के विधानसभा चुनाव में एक तरफ जहां पीएम मोदी ने यूपी में चुनाव की कैंपेनिंग में बड़ी भूमिका निभाई वहीं योगी भी इसमें कहीं पीछे दिखाई नहीं दिए। दोनों ने मिलकर सूबे में ताबड़तोड़ रैलियां की।

पीएम मोदी का रहा चिर-परिचित अंदाज
पीएम मोदी ने जहां अपने भाषणों में सूबे की पूर्व सरकारों पर अपने चिर-परिचित अंदाज में निशाना साधा वहीं सीएम योगी आदित्यनाथ के तेवर विपक्ष पर काफी तल्ख रहे। उन्होंने पीएम के साथ मिलकर अपनी और केंद्र की योजनाओं की जानकारी विस्तृत तौर पर सूबे की जनता को दी। वहीं विपक्ष के हाथों में केवल सूबे की सरकार को कोसना ही रहा।
मोदी योगी फैक्टर के आगे मुस्लिम यादव फैक्टर फेल
उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी का एम-वाई समीकरण (मुस्लिम-यादव) फेल होता हुआ दिखाई दे रहा है भाजपा का एमवाई फैक्?टर इस पर भारी पड़ रहा है। इस चुनाव में भाजपा पीएम मोदी और सीएम योगी के अगुवाई में उतरी थी। पार्टी ने इन्हीं दोनों के नाम पर वोट भी मांगे थे