बिजली कनेक्शन देने में गड़बड़ी पर अधिशासी अभियंता व एसडीओ बर्खास्त

 

लखनऊ। प्रदेश के सभी जिलों में बिजली आपूर्ति को लेकर बेहद गंभीर योगी आदित्यनाथ सरकार ने ग्रेटर नोएडा में बिजली कनेक्शन देने में गड़बड़ी पर बड़ा एक्शन लिया है। सरकार ने अधिशासी अभियंता और एसडीओ को सेवा से बर्खास्त करने के साथ ही दोषी दो अधिशासी अभियंता व एक उपखंड अधिकारी की एक वार्षिक वेतनवृद्धि भी रोक दी है। ग्रेटर नोएडा की मेसर्स गौर संस रियलिटी के विद्युत भार तय करने में बड़ी गड़बड़ी पकड़ी गई थी। ग्रेटर नोएडा में बिल्डर को बिजली कनेक्शन देने में गड़बड़ी के मामले में दोषी पाए गए तत्कालीन अधिशासी अभियंता और एसडीओ को बर्खास्त कर दिया गया है। पावर कारपोरेशन के अध्यक्ष एम. देवराज ने संबंधित मामले में तीन अन्य अभियंताओं के खिलाफ एक वार्षिक वेतन वृद्धि रोकने के आदेश भी दिए हैं। दरअसल ग्रेटर नोएडा के बिल्डर मैसर्स गौर सन्स रियालिटी प्राइवेट लिमिटेड के गौर सुन्दरम प्रोजेक्ट को 5200 केवीए का कनेक्शन नियमों को दरकिनार कर देने का मामला पिछले वर्ष पकड़ा गया था। जांच में पाया गया था कि अभियंताओं ने पावर कारपोरेशन को लगभग 8.36 करोड़ रुपये का चूना लगाया है। जांच में तत्कालीन अधीक्षण अभियंता राकेश कुमार राना के अलावा वितरण खंड के तत्कालीन अधिशासी अभियंता लाल सिंह राकेश व प्रभात कुमार सिंह, पारेषण के अधिशासी अभियंता प्रवीन कुमार, एसडीओ अजय कुमार व अवर अभियंता अरङ्क्षवद कुमार भी दोषी पाए गए।
कारपोरेशन प्रबंधन द्वारा इस संबंध में मध्यांचल के प्रबंध निदेशक की अध्यक्षता में समिति गठित की थी। पावर कारपोरेशन के अध्यक्ष एम. देवराज ने बताया कि समिति ने सभी पर लगे गंभीर आरोपों को सही पाया है। ऐसे में सहायक अभियंता विद्युत कार्यशाला केंद्र दक्षिणांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड राजापुर चित्रकूट के पद पर कार्यरत विद्युत वितरण खंड ग्रेटर नोएडा के तत्कालीन अधिशासी अभियंता लाल सिंह राकेश को शुक्रवार को बर्खास्त कर दिया गया। अवर अभियंता परीक्षण विद्युत परीक्षण उपखंड चायल कौशांबी में तैनात विद्युत वितरण खंड ग्रेटर नोएडा के तत्कालीन उपखंड अधिकारी अजय कुमार को भी दोषी पाए जाने पर बर्खास्त किया गया है।
संबंधित मामले में प्रभात कुमार सिंह अधिशासी अभियंता विद्युत वितरण खंड ग्रेटर नोएडा, प्रवीण कुमार अधिशासी अभियंता विद्युत पारेषण खंड प्रथम, उत्तर प्रदेश पावर ट्रांसमिशन कारपोरेशन लिमिटेड व चंद्रवीर तत्कालीन उपखंड अधिकारी विद्युत वितरण खंड ग्रेटर नोएडा इस समय सहायक अभियंता राजस्व विद्युत नगरीय वितरण खंड पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड करेलाबाग प्रयागराज की संबंधित अवधि में परनिंदा करते हुए एक वार्षिक वेतन वृद्धि रोकने का भी आदेश अध्यक्ष ने दिए हैं। उल्लेखनीय है कि राकेश के खिलाफ पहले ही कड़ी कार्रवाई करते हुए उनकी पेंशन में शत-प्रतिशत कटौती के आदेश दिए जा चुके हैं। राकेश पिछले वर्ष 31 मार्च को मुख्य अभियंता के पद से सेवानिवृत होने के बाद पश्चिमांचल डिस्काम के निदेशक (तकनीकी) बने थे। कनेक्शन में गड़बड़ी के दोषी पाए जाने पर राकेश को निदेशक पद से हटा दिया गया था।