अमेठी में खूनी संघर्ष, पूर्व प्रधान समेत चार लोगों को पीट-पीटकर हत्या

भूमि विवाद

 

अमेठी। आबादी की जमीन पर कब्जे को लेकर पूर्व प्रधान, उनके माता-पिता और भाई समेत चार लोगों की लाठियों से पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। इस दौरान छह लोग घायल भी हुए हैं, जिन्हें गौरीगंज संयुक्त जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घटना अमेठी के राजापुर गांव के मजरे गुंगवाच में देर रात की है। यहां आबादी की जमीन को लेकर राम दुलारे और संकठा प्रसाद यादव के बीच विवाद चल रहा है। घटना का निरीक्षण करने एडीजी जोन बृजभूषण सिंह राजापुर पहुंच गए हैं। उन्होंने पीडि़त परिवार को न्याय का भरोसा दिलाने के साथ अवैध निर्माण ढहाने का आश्वासन भी दिया। डीसीआरबी प्रभारी उमाकांत शुक्ल को अमेठी कोतवाली का प्रभारी बनाकर मामले की जांच सौंपी है। संकटा प्रसाद के बेटे हनुमान विवादित भूमि पर मौरंग गिरवा रहे थे, तभी रामदुलारे के पक्ष के लोगों ने उन पर हमला बोल दिया। मारपीट के दौरान गंभीर चोट लगने से संकठा प्रसाद, उनकी पत्नी पार्वती उर्फ ननका, उनके बेटे पूर्व प्रधान अमरेश यादव और हनुमान की मौके पर ही मौत हो गई। इसके अलावा अमरेश की पत्नी धन्नोदेवी, अमरेश का बेटा राजकुमार यादव, संकठा का बेटा अशोक समेत सात लोग गंभीर रूप से जख्मी हो गए। चार हत्याओं के बाद गांव में मातम का माहौल है, घटना में शामिल दूसरा पक्ष गांव से फरार है।