आरोपियों को जानते थे पुलिस अफसर : राकेश

शीना बोरा हत्याकांड
मुंबई। पूर्व पुलिस आयुक्त राकेश मारिया ने दावा किया है कि उनके बाद इस पद पर रहने वाले अहमद जावेद, शीना बोरा हत्या मामले में आरोपी इंद्राणी और पीटर मुखर्जी को सामाजिक रूप से जानते थे और पीटर तत्कालीन संयुक्त पुलिस आयुक्त देवेन भारती को भी भलीभांति जानते थे। 1993 में हुए सिलसिलेवार बम विस्फोटों जैसे मामले की जांच करने वाले और 26 नवम्बर 2008 को मुंबई में हुए आतंकवादी हमले की जांच का नेतृत्व करने वाले मारिया ने अपनी किताब लेट मी से इट नाउ में यह खुलासा किया है। भारती इस समय एटीएस के प्रमुख हैं। दावे को खारिज करते हुए कहा कि यह पुस्तक के लिए प्रचार की रणनीति प्रतीत होती है। पीटर मुखर्जी को शीना बोरा हत्या मामले में 19 नवम्बर 2015 को गिरफ्तार किया गया था। इस मामले में उनकी पूर्व पत्नी इंद्राणी मुखर्जी मुख्य आरोपी है। इंद्राणी मुखर्जी की बेटी शीना बोरा की हत्या का मामला 2015 में उस समय प्रकाश में आया था जब मुखर्जी के चालक श्यामवर राय को एक अन्य मामले में गिरफ्तार किया गया था। राय ने शीना के शव को ठिकाने लगाने में मदद की थी। लापता होने की शिकायत को लेकर 2012 में देवेन भारती के पास गए थे। किताब के अनुसार जब शीना के अचानक गायब होने के बारे में पता चलने पर मारिया ने पीटर मुखर्जी से कुछ नहीं करने के बारे में पूछा, तो उन्होंने जवाब दिया, सर, मैंने देवेन को बताया था। मुखर्जी से पूछताछ के बारे में याद करते हुए मारिया ने कहा, उस रात मैं एक झपकी भी नहीं ले सका था।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close