एसएसपी विपिन टाडा ने एसओजी व स्वाट टीम को किया भंग

गोरखपुर। सक्रिय पशु तस्कर, टप्पेबाज और वाहन चोर पर शिकंजा कसने में नाकाम जिले की एसओजी व स्वाट टीम को एसएसपी ने भंग कर दिया। इंस्पेक्टर समेत सभी पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर करने के साथ ही सभी को तत्काल लाइन में आमद कराने का आदेश दिया गया है। अचानक हुई कार्रवाई को कुशीनगर में स्वाट प्रभारी के पशु तस्कर के हमले में घायल होने की घटना से भी जोडक़र देखा जा रहा है।
एसएसपी डॉ विपिन ताडा ने एसओजी व स्वाट के कामकाज की समीक्षा की। जिसमें सामने आया कि शहर में पशु तस्कर व टप्पेबाज बेखौफ होकर घूमने के साथ ही वारदात कर रहे हैं। 20 से अधिक वीडियो सामने आने के बाद भी प्रभावी कार्रवाई नहींं हो पाई। इसके अलावा शनिवार की शाम को कुशीनगर जिले के कसया में गैंगस्टर में वांछित 25 हजार के इनामी पशु तस्कर को पकडऩे गए स्वाट प्रभारी निरीक्षक प्रदीप शर्मा के घायल होने के मामले में भी टीम की ओर से लापरवाही बरतने का आरोप है।
जिले की एसओजी टीम पर मई 2014 में शातिर बदमाश चंदन सिंह की मुखबिरी करने का आरोप लगा था। बदमाश को पकडऩे गई टीम दिल्ली से खाली हाथ लौट आई। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए तत्कालीन एसएसपी आकाश कुलहरि ने क्राइम ब्रांच की एसओजी टीम को भंग कर एक नई टीम का गठन किया। इस कार्रवाई के बाद जिला पुलिस में हडक़ंप मच गया था।