क्रांतिकारी मंगल पांडेय की 165वीं पुण्यतिथि आज

 

नई दिल्ली। ब्रिटिश सरकार के खिलाफ बगावत की चिंगारी भडक़ाने वाले बैरकपुर रेजीमेंट के सिपाही मंगल पांडेय को आज के ही दिन फांसी दे दी गई थी। देश को आजाद कराने का पहला श्रेय मंगल पांडेय को ही है। उनकी आजादी की चिंगारी भर ने ब्रिटिश हुकूमत को इतना डरा दिया कि निश्चित तारीख से पहले ही 8 अप्रैल 1857 को पश्चिम बंगाल के बैरकपुर जेल में उन्हें फांसी दे दी गई। क्रांतिकारी मंगल पांडेय का जन्म बलिया के निकट नगवा गांव में 19 जुलाई 1827 को सरयुपारी ब्राह्मण के घर हुआ था। पिता का नाम दिवाकर पांडेय और मां का नाम अभय रानी पांडेय था। मात्र 22 साल की उम्र में ही वे ईस्ट इंडिया कंपनी की 34वीं बंगाल नेटिव इन्फेंट्री में सिपाही के तौर पर शामिल हो गए थे। समय के साथ बदले हालात ने मंगल पांडेय को ब्रिटिश हुकूमत का दुश्मन बन गया। ब्रिटिश सिपाहियों के लिए साल 1850 में एनफिल्ड राइफल दिया गया।
दशकों पुरानी ब्राउन बैस के मुकाबले शक्तिशाली और अचूक इस एनफिल्ड बंदूक को भरने के लिए कारतूस को दांतों की सहायता से खोलना पड़ता था। कारतूस के कवर को पानी के सीलन से बचाने के लिए उसमें चर्बी होती थी। इस बीच खबर मिली की कारतूस की चर्बी सूअर और गाय के मांस से बनी है। सिपाहियों ने इसे ब्रिटिश हुकूमत सोची-समझी साजिश के तहत हिंदू-मुसलमानों के धर्म से खिलवाड़ समझा। तभी मंगल पांडे ने कारतूस का इस्तेमाल करने से इंकार कर दिया।