जनता दरबार में फरियादियों से बोले सीएम योगी- घबराइए मत, मै हूं न, होगी सख्त कार्रवाई

गोरखपुर। गोरखपुर दौरे पर आए सीएम योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को लखनऊ प्रस्थान करने के पहले गोरखनाथ मंदिर परिसर स्थित हिन्दू सेवाश्रम में 170 की संख्या में महिला-पुरुष फरियादियों से मुलाकात कर उनकी समस्याएं सुनी। उन्होंने फरियादियों को आश्वस्त किया ‘घबराइए मत, सख्त कार्रवाई की जाएगी।’ साथ चल रहे अधिकारियों को प्रार्थना पत्र की पत्रियां उनके अधिकार क्षेत्र के साथ सौंपते रहे, कार्रवाई के लिए जरूरी दिशा निर्देश देते रहे। मुख्यमंत्री के रुप में अपने दूसरे कार्यकाल में गोरखपुर में जनता दर्शन के लगातार तीसरे दिन जनता दर्शन में रविवार और शनिवार की अपेक्षा काफी कम लोग आए थे। जनता दर्शन में राजस्व एवं पुलिस सम्बधी काफी शिकायतें आई थीं। मुख्यमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि जमीन की पैमाइश और राजस्व संबंधी मामलों का तहसीलों में निस्तारण तेज किया जाए। जहां जरूरत पड़े पुलिस बल भी साथ लिया जाए। उन्होंने थानों और तहसीलों में समस्याओं के गुणवत्तापूर्ण समाधान के प्रति अधिकारियों को निर्देशित किया। जनता दर्शन में कमिश्नर रवि कुमार एनजी, डीएम विजय किरण आनंद, एडीजी अखिल कुमार, डीआईजी जे रविंद्र गौड़, एसएसपी विपिन ताड़ा, सीएम कैंप कार्यालय प्रभारी मोती लाल सिंह, अजय सिंह समेत अन्य मौजूद रहे।
सोमवार की सुबह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मठ से बाहर आए तो शिवावतारी गुरु गोरखनाथ का दर्शन कर पूजन किया। उसके बाद अखण्ड ज्योति का दर्शन कर ब्रह्मलीन गोरक्षपीठाधीश्वर द्वय महंत दिग्विजयनाथ एवं महंत अवेद्यनाथ की समाधि पर माथा टेक कर आशीर्वाद लिया। उसके बाद गोशाला में पहुंच कर तकरीबन 20 मिनट तक गोशाला में सेवा की। सीएम योगी आदित्यनाथ को गोशाला में देख स्वत: स्फूर्त भाव से बछड़ों ने उन्हें घेर लिया।
सीएम योगी आदित्यनाथ उनसे बातें करते हुए उन्हें गुड़ और चना खिला रहे थे। उसके बाद उन्हें गोशाला के गायो के साथ भी अपना स्नेह बांटा। गोशाला में कार्यरत सेवकों को बदलते मौसम का ध्यान रखते हुए गोवंशियों का ध्यान रखने के जरूरी दिशा निर्देश दिए। उसके बाद साधना भवन की ओर चले।
कालू और गुल्लू पर भी लुटाया प्यार
सीएम योगी आदित्यनाथ मंदिर भ्रमण करते हुए साधना भवन पहुंचे तो उन्होंने कालू और गुल्लू पर भी अपना स्नेह प्रदर्शित किया। कालू और गुल्लू भी सीएम योगी आदित्यनाथ से मिल कर प्रसन्न थे। गुल्लू तो कई बार अपनी सीमा लाघ उनके सीने पर अपने दोनों पैर रख कर खड़ा हो गया। लेकिन सीएम योगी ने स्नेहिल भाव से उसे पुचकारा।