नाव हादसे ने ली तीन महिलाओं की जान, सीएम योगी ने जताया दुख

 

कुशीनगर। नारायणी नदी में बुधवार को नाव पलटने के चलते लापता तीनों महिलाओं की मौत हो गई है। गोताखोरों ने जाल डालकर तीनों के शव नदी से बाहर निकाले। इस हादसे में कुल 10 लोग नदी में डूबे थे जिनमें से सात ने तैरकर नदी पार कर ली और सुरक्षित किनारे तक पहुंच गए। सीएम योगी ने घटना पर दु:ख जताते हुए अधिकारियों से दुर्घटना के पीडि़तों की पूरी मदद करने को कहा है। उन्होंने राहत और बचाव कार्य तेजी से चलाने और घायलों का उपचार कराने के भी निर्देश दिए हैं।
मिली जानकारी के अनुसार ये मजदूर खड्डा थाना क्षेत्र के ग्राम सालिकपुर स्थित नारायणी नोज से होकर नदी उस पार फसल काटने जा रहे जा रहे थे। इस दौरान बीच नदी में यह हादसा हो गया। इसमें पनियहवा के पथलहवा निवासी 38 वर्षीय एक महिला और क्रमश: 18 और 16 वर्षीय दो लडकियां पानी के बहाव में लापता हो गईं हैं। प्रत्यक्षदर्शियों ने तत्काल पुलिस को खबर की और स्थानीय गोताखोर लोगों को बचाने में जुट गए। मौके पर पहुंची सालिकपुर चौकी की पुलिस भी डूबे लोगों की तलाश में जुट गई। इस बीच 10 में से सात लोग एक नाव के सहारे तैरते हुए नदी किनारे पहुंच गए।
दर्दनाक मौत: थ्रेशर की चपेट में टुकड़ों में कट गई महिला
लेकिन हनुमानगंज थाना क्षेत्र के पनियहवा के पथलहवा निवासी समसुद्दीन की पत्नी आसमां खातुन (उम्र 38 वर्ष) गांव की ही गुडिय़ा पुत्री अशरफ (उम्र 18 वर्ष) और सोनी पुत्री पतरु (उम्र 16 वर्ष) का कुछ पता नहीं चला। उनकी तलाश के लिए स्थानीय गोताखोरों और पुलिस के अलावा एनडीआरएफ की टीम भी पहुंची। काफी देर तक खोजबीन के बाद आखिकर तीनों लापता महिलाओं के शव मिल गए। तीनों शवों को जाल डालकर बाहर निकाला गया।
डीएम और विधायक मौके पर पहुंचे
नाव दुर्घटना घटना की सूचना पाकर कुशीनगर के डीएम एस. राजलिंगम, एसपी और स्थानीय विधायक विवेकानंद पांडेय भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने पीडि़त परिवारों को हर संभव मदद का भरोसा दिलाया।