मिल्क प्लांट और शराब फैक्ट्री में मिलेगा 2000 को रोजगार

 

गोरखपुर। सीएम योगी आदित्यनाथ के दूसरे कार्यकाल में गीडा को नोएडा की तर्ज पर विकसित करने को लेकर कवायद तेज हो गई है। उद्यमियों को मिल रहे भूखंड और सुविधाओं का नतीजा है कि गीडा में आने वाले छह महीने में दूध और शराब की बड़ी फैक्ट्री स्थापित होने जा रही है। दोनों प्लांट में 1350 करोड़ से अधिक का निवेश होगा। इसमें 2000 से अधिक लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार मिलेगा। मुख्यमंत्री ने बीते दिनों अधिकारियों के साथ बैठक में औद्योगिक विकास पर विशेष जोर दिया था। ऐसे में गीडा सीईओ पवन अग्रवाल अवस्थापना सुविधाओं को बढ़ाने के साथ ही भू-खंड आवंटन पर जोर दे रहे हैं। मिल्क प्लांट और डिस्टलरी के लिए भूखंड आवंटन की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। माना जा रहा है कि महीने भर के अंदर इसकी औपचारिकता पूरी हो जाएगी। डेयरी उत्पादों को लेकर देश की प्रतिष्ठित ज्ञान डेयरी गीडा में 5 एकड़ में अत्याधुनिक प्लांट लगाने जा रही है। यहां 150 करोड़ से अधिक का निवेश होगा। दुग्ध उत्पादकों को अपने उत्पाद को बेचने के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। घर पर ही उन्हें दूध का उचित मूल्य मिल जाएगा। इसी क्रम में केयान डिस्टलिरीज भी 1200 करोड़ से अधिक का निवेश करेगी।
इसके लिए गीडा प्रशासन से 20 एकड़ भूखंड की डिमांड की गई है। गीडा में पहले से ही एक डिस्टिलरी है। जहां बड़े पैमाने पर लोगों को रोजगार मिला हुआ है। दोनों प्लांट में 2000 से अधिक लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार मिलेगा। गीडा में बनने वाला मेसर्स केयान ?डिस्टिलरी प्लांट 18 से 24 महीने में बनकर तैयार हो जाएगा। ग्रेनबेस्ड इथेनॉल प्लांट पर करीब 750 करोड़ रुपये और डिस्टिलरी प्लांट पर करीब 450 करोड़ रुपये खर्च होने की संभावना है। यानी कुल 1200 रुपये की लागत से इस प्लांट की स्थापना होगी।
एशिया का सबसे बड़ा इथेनाल प्लांट
डिस्टिलरी प्लांट संचालित करने वाले ग्रुप द्वारा ही ग्रेनवेस्ड इथेनाल प्लांट की भी स्थापना की जाएगी। ग्रीन एजर्नी को लेकर इसे बड़ी पहल माना जा रहा है। इसके साथ ही प्लांट ऊर्जा को लेकर आत्मनिर्भर होगी। इस डिस्टिलरी प्लांट में करीब 15 मेगावाट बिजली का भी उत्पादन होगा। प्लांट में खर्च होने के बाद अतिरिक्त बिजली को ग्रिड में भेजा जाएगा। इससे भी प्लांट को आमदनी होगी। केयान डिस्टिलरी प्राइवेट लिमिटेड के एमडी विनय कुमार सिंह का कहना है कि एशिया का सबसे बड़ा इथेनॉल प्लांट गोरखपुर के गीडा में स्थापित होगा। इंडियन ऑयल के साथ इसके लिए करार हो चुका है। हरेक दिन करीब 3.50 लाख लीटर इथेनॉल का उत्पादन होगा। इसके अलावा डिस्टिलरी प्लांट में शराब और बीयर आदि का भी उत्पादन होगा। दोनों प्लांट पर करीब 1200 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है।
इस बाबत सीईओ गीडा पवन अग्रवाल ने कहा कि बड़ी कंपनियों द्वारा निवेश के लिए मिले प्रस्तावों को लेकर तेजी से काम हो रहा है। दूध और डिस्टलरी प्लांट के लिए 25 एकड़ जमीन की मांग की गई है। इसके आवंटन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। 2000 से अधिक स्थानीय लोगों को रोजगार मुहैया होगा। गीडा में विभिन्न सेक्टर में अवस्थापना के काम तेजी के किये जा रहे हैं।