स्कूलों में सख्ती से कराएं कोरोना प्रोटोकाल का पालन: सीएम

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिए हैं कि कोरोना के बढ़े के केसों के मद्देनजर बच्चों की स्वास्थ्य सुरक्षा को लेकर सतर्क रहना होगा। यह जरूरी है कि स्कूलों में कोविड प्रोटोकॉल के बारे में बच्चों को जागरूक किया जाए और इसे सख्ती से लागू किया जाए। सीएम बुधवार को टीम-9 के अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों से विभिन्न राज्यों में कोविड के केस में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। एनसीआर के जिलों में भी इसका प्रभाव है। बीते 24 घंटे में गौतमबुद्ध नगर में 103 और गाजियाबाद में 33 नए पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई है।
छूटे लोगों को लगाएं वैक्सीन
एनसीआर के गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद, हापुड़, मेरठ, बुलंदशहर, बागपत और लखनऊ में टीकाकरण से छूटे लोगों को चिन्हित कर वैक्सीनेट किया जाए। पब्लिक एड्रेस सिस्टम का प्रभावी ढंग से इस्तेमाल किया जाए। एनसीआर के जिलों तथा लखनऊ में सभी के लिए सार्वजनिक स्थानों पर फेस मास्क लगाने की व्यवस्था को प्रभावी ढंग से लागू किया जाए। लोगों को कोविड प्रोटोकॉल का अनुपालन के लिए जागरूक किया जाए। प्रदेश में वर्तमान में कुल एक्टिव केस की संख्या 856 है। पिछले 24 घंटों में एक लाख 13 हजार कोरोना टेस्ट किए गए, जिसमें 170 नए कोरोना मरीजों की पुष्टि हुई। इसी अवधि में 110 लोग उपचारित होकर कोरोना मुक्त भी हुए। हमें पूरी सावधानी और सतर्कता बरतनी होगी।
बच्चों के टीकाकरण को और तेज करें
कोविड टीकाकरण अभियान की प्रगति संतोषप्रद है। किंतु बच्चों के टीकाकरण को और तेज करने की जरूरत है। 30 करोड़ 86 लाख से अधिक कोविड टीकाकरण के साथ ही 18 से ज्यादा आयु की पूरी आबादी को टीके की कम से कम एक डोज लग चुकी है, जबकि 86.69 फीसदी से अधिक वयस्क लोगों को दोनों खुराक मिल चुकी है। 15 से 17 आयु वर्ग में 94.26 फीसदी किशोरों को पहली खुराक मिल चुकी है। 12 से 14 आयु वर्ग के बच्चों को पहली डोज के बाद अब पात्रता के अनुसार दूसरी डोज भी दी जाए।
बूस्टर डोज में भी लाएं तेजी
18 से ज्यादा आयु के लोगों को बूस्टर डोज लगाने में तेजी की अपेक्षा है। प्रत्येक दशा में यह सुनिश्चित किया जाए कि एक भी नागरिक टीकाकरण से वंचित न रहे। बूस्टर डोज की महत्ता और बूस्टर टीकाकरण केंद्रों के बारे में आमजन को जागरूक किया जाए।