एमपी बोर्ड परीक्षा परिणाम घोषित: छोटे शहरों की 11 बेटियों ने किया टॉप

भोपाल (मध्यप्रदेश)। माध्यमिक शिक्षा मंडल (एमपी बोर्ड) की 10वीं और 12वीं बोर्ड का रिजल्ट शुक्रवार को दोपहर 1 बजे घोषित कर दिया गया। इनमें सभी 11 टॉपर छोटे शहरों की बेटियां हैं। कक्षा 10वीं में छतरपुर की नैंसी दुबे और सतना की सुचिता पांडे ने टॉप किया है। दोनों ने 496 नंबर हासिल किए हैं। स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री इंदर सिंह परमार सिंगल क्लिक से रिजल्ट जारी किया। करीब 18 लाख स्टूडेंट्स ने परीक्षा दी थी। 10वीं में 59.54 प्रतिशत पास हुए हैं। 12वीं के 72 फीसदी स्टूडेंट पास हुए हैं। कक्षा 10वीं में छतरपुर की नैंसी दुबे और सतना की सुचिता पांडे ने 496 नंबर हासिल किए हैं। दोनों संयुक्त रूप से नंबर एक पर हैं। 12वीं में कला समूह में सागर की इशिता दुबे 480 नंबर के साथ टॉपर हैं। विज्ञान गणित समूह में श्योपुर की प्रगति मित्तल (494 अंक) ने और कॉमर्स समूह में मुरैना की खुशबू शिवहरे (480 अंक) ने टॉप किया। जीव विज्ञान समूह में शाजापुर की दिव्यता पटेल (491अंक) ने टॉप किया है।

वर्ष 2018, 2019 में 10वीं का रिजल्ट ऐसा रहा था
वर्ष 2019 में 61.32त्न और 2018 में 66 त्न रिजल्ट रहा था। दो साल से फॉर्मूला के आधार पर रिजल्ट तैयार हो रहा था।
मोबाइल ऐप की भी सुविधा: रिजल्ट को लेकर बच्चों के मन में कोई भी सवाल या शंका है, तो डरने की जरूरत नहीं है। बोर्ड परीक्षा के विद्यार्थी मंडल द्वारा जारी टोल फ्री नंबर 18002330175 पर आसानी से अपने सवालों के जवाब पूछ सकते हैं। इसमें नंबर कम आने से लेकर सभी तरह के प्रश्नों के जवाब काउंसलर देंगे। इस साल अब तक 1 जनवरी से 28 अप्रैल तक करीब 51 हजार स्टूडेंट्स टोल फ्री नंबर पर कॉल कर चुके हैं।
कॉल करने पर कोई चार्ज नहीं
एमपी बोर्ड ने छात्रों के लिए हेल्पलाइन नंबर को टोल फ्री किया है। सभी हेल्पलाइन नंबर सर्वर से सीधे 6 अलग-अलग लाइनों पर बैठे काउंसलर के पास ऑटोमैटिक ट्रांसफर हो जाते हैं।
ग्रामीण क्षेत्र के स्टूडेंट्स के कॉल सबसे ज्यादा
पिछले साल तक माध्यमिक शिक्षा मंडल के हेल्पलाइन नंबरों पर प्रदेशभर से एक दिन में करीब 200 कॉल आते थे। अब इनकी संख्या काफी बढ़ गई है। मंडल ने 2019 में सालभर काउंसिलिंग प्रक्रिया चलाई थी। तब से अब तक 5 लाख से ज्यादा कॉल हेल्पलाइन नंबरों पर आ चुके हैं। ग्रामीण क्षेत्रों के स्टूडेंट्स सबसे ज्यादा कॉल करते हैं।
18 काउंसलर व 120 से अधिक विषय विशेषज्ञ
मंडल ने तीन शिफ्ट में 6-6 काउंसलर को रखा है। स्टूडेंट्स की काउंसिलिंग के लिए 18 काउंसलर, मनोवैज्ञानिक रहते हैं। साथ ही 120 से अधिक विषय विशेषज्ञ भी शामिल हैं। स्टूडेंट्स शैक्षणिक समस्या, मानसिक तनाव से संबंधित किसी भी तरह के प्रश्न हेल्पलाइन नंबर पर पूछ सकते हैं। यह सभी दिन काम करता है।
रीटोटलिंग और कॉपी देखने का मौका
एमपी बोर्ड द्वारा बच्चों को रीटोटलिंग और कॉपी देखने का अवसर दिया जाता है। इसके लिए रिजल्ट जारी होने के 15 दिन के अंदर आवेदन करना होता है। रिजल्ट को लेकर स्टूडेंट्स के मन में कोई भी संदेह या शंका होने पर वह रीटोटलिंग या कॉपी भी देख सकता है। अगर कोई गड़बड़ हुई है, तो उसे ठीक कर नया रिजल्ट तैयार होगा।