स्टेपलर लेने कमरे में गई सातवीं की 12 वर्षीय छात्रा को 70 साल के प्रिंसिपल ने छेड़ा

चित्तौड़ा। एक प्राइवेट स्कूल में संस्कृत के पेपर के दौरान स्टेपलर लेने कमरे में गई सातवीं की छात्रा के साथ सत्तर साल के प्रिंसिपल ने छेड़छाड़ की। जब बच्ची ने घर जाकर घरवालों को यह बात बताई तो वे गुस्से में स्कूल गए और प्रिंसिपल की पिटाई कर दी। इस दौरान प्रिंसिपल ने अपना गुनाह कबूल भी किया। पुलिस ने उसके खिलाफ पॉक्सो ऐक्ट व एससी-एसटी ऐक्ट में मामला दर्ज किया है। लोंगों ने स्कूल में भी तोडफ़ोड़ की। यह मामला चित्तौडग़ढ़ जिले के चिल्ड्रन पैराडाइज स्कूल का है।
चित्तौडग़ढ़ के नजदीक चंदेरिया के चिल्ड्रन पैराडाइज माध्यमिक स्कूल में शुक्रवार शाम को यह घटना हुई। संस्कृत के पेपर के दौरान सातवीं कक्षा में पढऩे वाली 12 वर्षीय छात्रा की उत्तर पुस्तिका भर गई तो उसने सप्लीमेंट्री कॉपी ली। इसको मुख्य कॉपी के साथ अटैच करने के लिए चपरासी को आवाज लगाई, उसके आने में देरी हुई तो टीचर ने बच्ची को ही प्रिंसिपल कक्ष में भेजकर स्टेपलर से अटैच करने को कहा। इस समय प्रिंसिपल अनिल सिंह अपनी सीट पर अकेले बैठे थे, इस दौरान उन्होंने कथित तौर पर बच्ची का हाथ पकड़ा और गंदी हरकत करने लगे। बच्ची हाथ छुड़ाकर बाहर आ गई। परीक्षा के बाद सीधे घर जाकर इस घटना के बारे में बताया।