बस चालक को लात मारने वाला सिपाही बर्खास्त

कानपुर। बिना टिकट यात्रा करने पर हुए विवाद के दौरान ई-बस चालक को लात मारने वाले ट्रैफिक हेड कांस्टेबल भुवनेश बाबू को बर्खास्त कर दिया गया है। विभागीय जांच में दोषी पाए जाने के बाद कार्यवाहक डीसीपी ट्रैफिक ने मंगलवार रात को बर्खास्तगी की कार्रवाई की है। इसके जरिए उन्होंने पुलिस महकमे को संदेश देने की कोशिश की है कि अगर वर्दी की गरिमा को भूले, तो सख्त कार्रवाई की जाएगी।
टिकट के पैसे मांगने पर हो गया था नाराज
डीसीपी वेस्ट बीबीजीटीएस मूर्ति के पास डीसीपी ट्रैफिक का भी अतिरिक्त प्रभार है। उन्होंने बताया कि बीते शुक्रवार को गोल चौराहे का एक वीडियो सामने आया था। इसमें ट्रैफिक विभाग का एक हेड कांस्टेबल भुवनेश बाबू ई-बस चालक को लात मारते दिख रहा था। मामले की जांच एसीपी कर्नलगंज त्रिपुरारी पांडेय को सौंपी गई थी। जांच में सामने आया कि भुवनेश बाबू मंधना से गोल चौराहा स्वरूप नगर के लिए ई-बस में बैठे थे। जब कंडक्टर अनिल कुमार वर्मा ने टिकट के पैसे मांगे थे तो वह उनसे भिड़ गया था। उसका गिरेहबान पकडक़र घसीटते हुए बस में पीटा। ड्राइवर नीरज ने बस रोककर उसका वीडियो बनाने का प्रयास किया, तो उसे भी लात मार दी थी। जांच में सभी तथ्य सही पाए गए। इसके बाद डीसीपी पश्चिम/ ट्रैफिक बीबीजीटीएस मूर्ति ने हेड कांस्टेबल को मंगलवार रात को बर्खास्त कर दिया।
बोले डीसीपी- नौकरी के लायक नहीं है कांस्टेबल
डीसीपी ने अपनी जांच में लिखा गया है कि हेड कांस्टेबल ने जो कृत्य किया है, वह बेहद गंभीर है। आम जनमानस में वह अपने पद का गलत इस्तेमाल करते हुए लोगों पर दबाव बनाएगा। इससे पब्लिक के बीच पुलिस की छवि खराब होगी और पुलिस से बेवजह भय पैदा होगा। इस लिहाज से वह नौकरी के लायक नहीं है। इसके चलते उसे नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया है।