बारिश में दिल्ली समेत देश के अन्य शहरों में जलजमाव की बढ़ती समस्या

नई दिल्ली। सोमवार शाम को दिल्ली के अनेक इलाकों में आंधी के साथ कु छ देर बारिश भी हुई। इस आंधी-बारिश में नई दिल्ली क्षेत्र में इतने वृक्षों की टहनियां गिरीं कि यातायात घंटों प्रभावित रहा। कई जगहों पर इतना पानी भर गया कि सारा प्रशासन ही उसमें डूब जाए। देश की राजधानी दिल्ली में बारिश हर बार आनंद ले कर नहीं आती, यहां बारिश का मतलब है करोड़ों रुपए की लागत से बने अंडरपास हों या फिर छह लेन वाली सडक़ें, हर जगह इतना पानी होता है कि जिंदगी ठहर जाए। दुर्भाग्य है कि शहरों में हर इंसान ऐन-केन प्रकारेण भरे हुए पानी से बच कर बस अपने मुकाम पर पहुंचना चाहता है लेकिन वह सवाल नहीं करता कि आखिर ऐसा क्यों व कब तक? बात अकेले दिल्ली की ही नहीं है, यह तो अब रांची, बलिया, मुजफ्फरपुर जैसे शहरों की भी त्रसदी हो गई है कि थोड़ी सी बरसात या आंधी चले तो सारी मूलभूत सुविधाएं जमीन पर आ जाती हैं। किसी भी शहर का नाम लें, कुछ न कुछ ऐसे ही हालात देखने-सुनने को मिल जाते हैं। जब दिल्ली की सरकार हाई कोर्ट के आदेशों की परवाह नहीं करती और न्यायालय अपने आदेशों की नाफरमानी पर मौन रहता है तो जाहिर है कि आम आदमी क्यों आवाज उठाएगा।