अग्निपथ स्कीम पर पूरे देश में मचा संग्राम, ट्रेनों में आग, हाईवे पर जाम और बरसे पत्थर

नई दिल्ली। सेना में भर्ती के लिए सरकार की ओर से घोषित की गई अग्निपथ स्कीम का तीव्र विरोध देश के राज्यों में शुरू हो गया है। मंगलवार को इस स्कीम का ऐलान किया गया था और बुधवार सुबह ही बिहार के कई जिलों में छात्रों ने इसके खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। यही नहीं गुरुवार को एक बार फिर से मुंगेर, कैमूर, सहरसा, छपरा समेत कई जिलों में छात्र विरोध के लिए उतरे हैं। कैमूर में छात्रों ने इंटरसिटी एक्सप्रेस को आग के हवाले कर दिया तो कई जगहों पर सडक़ जाम कर टायरों में आग लगाकर प्रदर्शन कर रहे हैं। इसके अलावा दिल्ली-जयपुर हाईवे को भी छात्रों ने राजस्थान में जाम कर दिया है। यूपी के बरेली में सेना की तैयारी कर रहे युवाओं ने विरोध प्रदर्शन शुरू किया है। बिहार से शुरू इस आंदोलन की आग देश के अलग-अलग राज्यों में फैल रही है।
ग्वालियर में प्रदर्शनकारियों को समझाने में जुटा प्रशासन
ग्वालियर में युवाओं की भीड़ गोला का मंदिर चौराहे पर जमा हो गई, जिसके बाद शुरू हुआ उत्पात। चारों तरफ का ट्रैफिक थम गया। पुलिस के अधिकारी मौके पर पहुंचकर युवाओं से बात की कोशिश कर रहे हैं। और साथ ही पुलिस हंगामा शांत करने के प्रयास में जुटे हुए हैं।
बिहार सरकार के मंत्री बिजेंद्र यादव ने भी अग्निपथ स्कीम के विरोध में चल रहे आंदोलन पर टिप्पणी की है। जेडीयू के नेता ने कहा कि केंद्र सरकार को इस पर विचार करना चाहिए। छात्रों के विरोध पर बोले कि इसमें तो बिहार सरकार का कोई रोल ही नहीं है।
रांची में अग्निपथ योजना के विरोध में एक घंटे मेन रोड जाम
सेना में अग्निपथ योजना के तहत संविदा पर चार साल की नौकरी का गुरुवार को रांची में युवाओं ने जमकर विरोध किया। मेन रोड स्थित सैनिक भर्ती कार्यालय के पास बड़ी संख्या में युवाओं ने प्रदर्शन किया और करीब एक घंटे तक में रोड जाम रखा। डीएसपी जीतवाहन उरांव और चुटिया थाना की टीम ने काफी देर युवाओं को समझाया, इसके बाद युवा वहां से हटे। मेन रोड से निकलकर युवा रांची रेलवे स्टेशन के पास जमा हुए। सभी रेलवे पटरी जाम करना चाहते थे, लेकिन यहां पुलिस ने उन्हें समझा कर मामला शांत करा दिया।
हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में भी सेना में भर्ती की तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों ने अग्निपथ स्कीम के विरोध में प्रदर्शन किया है।
भागलपुर में खड़ी हैं ट्रेनें, विक्रमशिला एक्स्प्रेस अब तक नहीं हुई रवाना
अग्निपथ के खिलाफ आंदोलन का असर ट्रेन सेवाओं पर भी पड़ा है। बिहार के भागलपुर में प्रदर्शनकारियों नेकई जगह पर रेल पटरी का पैंडू क्लिप खोल दिया है। जब तक ट्रैक फिट नहीं दिया जाएगा,ट्रेन सेवा शुरू नहीं हो सकेगी। नाथनगर स्टेशन पर बीते एक घंटे से गरीब रथ रुकी हुई है। विक्रमशिला एक्सप्रेस भी निर्धारित समय पर भागलपुर से रवाना नहीं हो सकी। 11.50 समय है। अबतक ट्रेन स्टेशन पर खड़ी है। मालदा किऊल इंटरसिटी भी भागलपुर स्टेशन पर खड़ी है।
सेना में चार साल सेवा के लिए आई अग्निपथ योजना के विरोध में बिहार से शुरू हुए आंदोलन की लपटें हरियाणा तक पहुंच गई हैं। गुरुग्राम और पलवल में भी युवा बवाल कर रहे हैं। पलवल में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर किया पथराव किया और गाडिय़ों में तोडफ़ोड़ के बाद आग लगा दी है। डीसी कार्यालय में भी तोडफ़ोड़ लगा दी गई। भीड़ को खदेडऩे के लिए पुलिस की ओर से हवाई फायरिंग की भी सूचना है। उधर, गुरुग्राम में दिल्ली-जयपुर हाईवे को पूरी तरह जाम कर दिया गया है। दोनों ही जगहों पर बड़ी संख्या में तैनात पुलिसकर्मी हालात को काबू करने में जुटे हुए हैं।
छात्रों ने कटिहार पूर्णिया सडक़ मार्ग को जाम कर दिया है। छात्र काफी आक्रोशित हैं और केंद्र सरकार से अग्निपथ जैसे नियमों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं।छात्रों ने कहा कि 2 साल से वह लोग मेडिकल पास है लेकिन परीक्षा नहीं ली जा रही है। जब कटिहार पहुंचकर अधिकारी से बातचीत करते हैं तो कहा जाता है कि परीक्षा को रद्द कर दिया गया है। परीक्षा कब होगी इसकी जानकारी उन्हें नहीं है। इसी बात से छात्र आक्रोशित हैं। सडक़ जाम की सूचना पर मुफस्सिल थाना अध्यक्ष रंजीत कुमार सीओ सोनू भगत के साथ-साथ कई प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे और लोगों को समझाने बुझाने का प्रयास में जुटे हैं।
अभ्यर्थियों के आंदोलन के चलते विक्रमशिला एक्सप्रेस भागलपुर से आनंद विहार के लिए समय पर रवाना नहीं हो सकी। रवाना होने का समय 11.50 बजे है। अब तक ट्रेन स्टेशन पर खड़ी है। मालदा-किऊल इंटरसिटी भी भागलपुर स्टेशन पर खड़ी है। गरीब रथ को नाथनगर स्टेशन पर रोक दिया गया है। आक्रोशित छात्रों ने कई जगह पर रेल पटरी का पैंडू क्लिप खोल दिया है। जब तक ट्रैक फिट नहीं होगा, ट्रेन सेवा शुरू नहीं हो सकेगी।
सेना भर्ती के लिए केंद्र सरकारी की अग्निपथ योजना के खिलाफ गुरुवार को मधुबनी में जमकर अभ्यर्थियों ने हंगामा किया। इस दौरान युवकों ने थाना चौक पर आगजनी कर प्रदर्शन किया। युवकों को रोकने के लिए एहतियातन पुलिस ने सडक़ पर बैरिकेडिंग की है। छात्रों की संख्या बढ़ते देख थाना चौक पर पुलिस की संख्या बढ़ा दी गई है। पुलिस का दावा है कि छात्र प्रदर्शन कर रहें हैं लेकिन व्यवस्था नियंत्रण में है। हालांकी छात्रों ने इस दौरान मधुबनी-दरभंगा रोड को जाम कर दिया है।
बिहार के कैमूर जिले के भभुआ रोड स्टेशन पर छात्रों ने भारी पथराव किया है। पुलिस वालों की ओर से सख्ती किए जाने की कोशिश पर छात्र भडक़ गए और पथराव कर दिया।
सेना में भर्ती को लेकर केंद्र सरकार की नई योजना अग्निपथ के खिलाफ यूपी के बरेली में प्रदर्शन हो रहा है। बड़ी संख्या में युवा सडक़ों पर उतरे हैं। उन्होंने चौकी चौराहा पर जाम लगा दिया है। गुरुवार सुबह 11 बजे के करीब चौकी चौराहा पहुंचे युवाओं ने जमकर प्रदर्शन किया। वे सेना में सेवा की अवधि 4 साल किए जाने के खिलाफ आंदोलित हैं। उनका कहना है कि इस योजना से न उन्हें फायदा होगा न देश को। चार साल की सीमित अवधि में वे अपना अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाएंगे। इस अवधि के बाद बिना पेंशन और सेवानिवृति के अन्य लाभों के वे एक बार फिर बेरोजगार हो जाएंगे।
अग्निपथ भर्ती योजना के खिलाफ प्रदर्शन उत्तराखंड में भी शुरू हो गया है। चंपावत समेत कई जिलों में अभ्यर्थी सडक़ों पर उतर आए हैं। इसके चलते रास्ते जाम हो गए हैं।
सेना में भर्ती के लिए लॉन्च की गई अग्निपथ स्कीम पर आगे बढऩा सरकार के लिए भी अग्निपथ साबित हो सकता है। बिहार से लेकर राजस्थान तक में युवा सडक़ों पर उतर आए हैं और इस स्कीम का विरोध कर रहे हैं। इसके अलावा विपक्षी दलों, कैप्टन अमरिंदर सिंह और वरुण गांधी जैसे नेताओं ने भी इस योजना पर सवाल खड़े किए हैं। बिहार में लगातार दूसरे दिन इस स्कीम के खिलाफ आंदोलन हो रहा है। मुंगेर, सहरसा, छपरा और मुजफ्फरपुर जैसे जिलों में युवा सडक़ों पर उतर आए हैं। कहीं रेल की पटरियों पर बैठे हुए हैं तो कहीं टायरों में आग लगाकर प्रदर्शन किया जा रहा है। वरुण गांधी ने इस स्कीम को लेकर सरकार का पक्ष साफ करने की मांग करते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखा है।