अग्निपथ पर पूरे देश में आक्रोश: यूपी के अलीगढ़ में फूंकी चौकी, गुरुग्राम में धारा 144 लागू

नई दिल्ली। नरेंद्र मोदी सरकार ने मंगलवार को सेना में बहाली के लिए अग्निपथ योजना की घोषणा की थी। देश के कई राज्यों में इसका जमकर विरोध हो रहा है। बिहार और उत्तर प्रदेश में इसका सबसे अधिक असर देखने को मिल रहा है। इस बहाली योजना के खिलाफ प्रदर्शन आज भी जारी है। आंदोलनकारियों ने इसे तुरंत वापस लेने की मांग की है। सरकार इसके लिए फिलहाल तैयार नहीं दिख रही है। हालांकि, कल एक संसोधन जरूर किया गया। इस साल के लिए अधिकतम उम्र की सीमा को 21 साल से बढ़ाकर 23 साल कर दिया गया। आपको बता दें कि कई राजनीतिक दलों ने भी इस स्कीम को वापस लेने की मांग की है।
पश्चिम बंगाल में नौ ट्रेनें रद्द
पूर्व मध्य रेलवे ने जानकारी दी कि पश्चिम बंगाल में रेलवे जोन के विभिन्न स्टेशनों पर चल रहे प्रदर्शन के कारण नौ ट्रेनें रद्द की गई हैं। रेलवे की ओर से यह घोषणा अग्निपथ स्कीम के खिलाफ उग्र आंदोलन के बाद सामने आई है।
गुरुग्राम में धारा 144 लागू
गुरुग्राम में जिला प्रशासन ने एहतियात के तौर पर धारा 144 लागू कर दी है। हालांकि प्रशासन का कहना है कि सैनिकों की भर्ती के लिए केंद्र की अग्निपथ योजना के खिलाफ शुक्रवार को कोई ताजा विरोध नहीं हुआ। उपायुक्त निशांत यादव ने कहा कि यह आदेश इसलिए जारी किया गया, क्योंकि दूसरे दिन भी विरोध प्रदर्शन जारी रहने की संभावना है और प्रशासन ने रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, बाजारों, राष्ट्रीय राजमार्गों और बिजली ग्रिड सहित जिले के विभिन्न स्थानों पर गुस्साई भीड़ के जुटने की आशंका जताई है।
अलीगढ़ में रोडवेज बसों को फूंका, बलिया में 100 लोग गिरफ्तार
अग्निपथ योजना के खिलाफ विरोध प्रदर्शन की कड़ी में अलीगढ़ में टप्पल के पास रोडवेज बसों को आग लगा दी गई है, जबकि उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में 100 लोगों को पकड़ा गया है। ये गिरफ्तारियां आज सुबह अग्निवीर के विरोध के दौरान दो ट्रेनों में तोडफ़ोड़, पथराव, ट्रेन के एक डिब्बे में आग लगाने के आरोप में हुईं।
18 जून को बिहार बंद का ऐलान
केंद्र सरकार द्वारा सेना में अनुबंध प्रणाली लाने वाली अग्निपथ योजना को अविलंब वापस लेने के सवाल पर बिहार के छात्र-युवा संगठन आइसा-इनौस, रोजगार संघर्ष संयुक्त मोर्चा और सेना भर्ती जवान मोर्चा ने मोर्चा संभाल लिया है। पीएम मोदी को 72 घंटे का अल्टीमेटम दिया है। संगठन ने 18 जून को बिहार बन्द और फिर भारत बंद की ओर बढऩे का ऐलान किया है। वहीं आरजेडी ने भी 18 जून को बिहार बंद का ऐलान किया है।
रेलवे की संपत्ति को नुकसान न पहुचाएं, रेल मंत्री की अपील
ट्रेनों में आगजनी की घटना के बाद रेल मंत्री अश्विनी चौबे ने प्रदर्शनकारियों से शांति बरतने की अपील की है। कहा है कि रेलवे की संपत्ति को नुकसान न पहुंचाएं। रेल मंत्रालय के अनुसार, रेलवे के 24 अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शन चल रहा है। साथ ही 216 ट्रेनें प्रभावित हुईं।
रेलवे आपकी ही संपत्ति है, नुकसान न करें, हिंसा और तोडफ़ोड़ पर रेल मंत्री की अपील
अग्निपथ स्कीम के हिंसक विरोध और ट्रेनों को फूंके जाने के बीच रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने शांति की अपील की है। उन्होंने कहा कि रेलवे आपकी और राष्ट्र की संपत्ति है। इसकी पूंजी को किसी भी तरह नुकसान न पहुंचाए। यह आपकी ही सेवा के लिए है।
आईटीओ पर छात्र संगठनों का प्रदर्शन, पुलिस ने कुछ को हिरासत में लिया
दिल्ली के आईटीओ में छात्र संगठन अग्निपथ योजना के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। जेएनयू छात्र भी प्रदर्शन के लिए आईटीओ जा रहे हैं। उनका कहना है कि उन्हें बीच में ही रोका जा रहा है। जानकारी के अनुसार, कुछ छात्रों को हिरासत में लिया गया है।
अलीगढ़ के टप्पल में प्रदर्शनकारियों ने चौकी में लगाई आग
यूपी के अलीगढ़ जिले में भी अग्निपथ स्कीम को लेकर विरोध हिंसक हो गया है। थाना टप्पल के अंतर्गत आने वाली चौकी जट्टारी के अंदर प्रदर्शनकारियों ने आग लगा दी है।
यमुना एक्सप्रेसवे भी हुआ जाम, मौके पर पहुंचा पुलिस बल
अग्निपथ योजना के विरोध में युवाओं ने यमुना एक्सप्रेसवे को जाम कर दिया है। इसके चलते मथुरा के मांट के पास टोल पर ट्रैफिक को रोक दिया गया है। मौके पर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी पहुंचे और उन्हें समझा-बुझाकर उन्हें वापस भेजने की कोशिश की।
बिहार में प्रदेश बीजेपी अध्?यक्ष संजय जायसवाल के घर पर हमला
अग्निपथ योजना को लेकर देश के अलग-अलग हिस्?सों में मचे बवाल के बीच बेतिया में डिप्?टी सीएम रेणु देवी के घर पर हमला हुआ है। इसके अलावा बिहार बीजेपी के अध्?यक्ष संजय जायसवाल के घर पर भी हमला हुआ है। एक समाचार चैनल के मुताबिक उनके घर को जलाने की कोशिश की गई है।
विरोध की लहर पश्चिम बंगाल पहुंची
अग्निपथ भर्ती योजना के खिलाफ विरोध की लहर पश्चिम बंगाल पहुंच गई है। मीडिया जानकारी मिली है कि यहां सशस्त्र बलों के उम्मीदवारों ने रैलियां निकालीं और कई क्षेत्रों में ट्रेनों को अवरुद्ध कर दिया। पुलिस अधिकारियों ने कहा है कि हालांकि पथराव या आगजनी जैसी किसी हिंसक घटना की कोई खबर नहीं है। न ही कोई घायल नहीं हुआ।
हिंसक आंदोलन के बीच सेना प्रमुख ने बताया, दो दिन के अंदर आएगा अग्निपथ योजना में भर्ती का नोटिफिकेशन
अग्निपथ योजना को लेकर देश भर में चल रहे हिंसक आंदोलन के बीच आर्मी चीफ जनरल मनोज पांडे ने बताया है कि कब तक पहले अग्निवीर की भर्ती की जाएगी। उन्होंने कहा कि अगले दो दिनों में इसके लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया जाएगा।
अग्निपथ योजना के विरोध में भागलपुर में छात्र राजद का प्रदर्शन
अग्निपथ योजना के विरोध में विश्वविद्यालय परिसर में शुक्रवार को छात्र राजद के नेता और कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। इस दौरान छात्र नेताओं ने केन्द्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। छात्र बहुदेशीय प्रसाल से मारवाड़ी कॉलेज होते हुए तिलकामांझी विश्वविद्यालय तक पहुंचे। छात्रों ने जमकर प्रदर्शन किया और पुतला फूंका। प्रदर्शन का नेतृत्व छात्र राजद के विश्वविद्यालय अध्यक्ष दिलीप यादव कर रहे हैं।
गुरुग्राम में धारा 144 लागू, उल्लंघन करने पर होगी कार्रवाई
देशभर के कई राज्यों में अग्निपथ योजना को लेकर युवाओं का गुस्सा बढ़ता जा रहा है। प्रदर्शनकारी युवा सरकार से इस योजना को वापस लेने का मांग कर रहे हैं। यूपी-बिहार में इसका सबसे ज्यादा असर दिख रहा है। वहीं दिल्ली के आईटीओं पर भी छात्र संगठन विरोध कर रहे हैं। इस प्रदर्शन की आंच से दिल्ली-एनसीआर भी अछूता नहीं है। इसी बीच गुरुग्राम जिला प्रशासन ने अग्निपथ के विरोध को ध्यान में रखते हुए पूरे जिले में धारा 144 लागू कर दिया है।
इंडियन आर्मी को दिसंबर तक मिलेगा पहला अग्निवीर: सेना प्रमुख
आर्मी चीफ ने कहा, पहले अग्निवीर को दिसंबर (2022) तक हमारे रेजिमेंटल केंद्रों में शामिल किया जाएगा। अगले साल के मध्य तक उन्हें ड्यूटी पर तैनात कर दिया जाएगा। इसको लेकर भर्ती प्रक्रिया जल्द शुरू होने वाली है। अगले 2 दिनों के भीतर अधिसूचना जारी की जाएगी। उसके बाद हमारे सेना भर्ती संगठन पंजीकरण का विस्तृत कार्यक्रम घोषित करेंगे।
अग्निपथ योजना के बारे में युवाओं को नहीं है पूरी जानकारी: आर्मी चीफ
अग्निपथ योजना पर भारतीय सेनाध्यक्ष जनरल मनोज पांडे ने कहा, हमारी यूनिट्स अग्निपथ योजना को अपनाने के लिए पूरी तरह से तैयार और उत्सुक है। जहां तक मुझे लगता है कि युवाओं को इस योजना के बारे में अब तक पूरी जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा, एक बार युवा इस योजना के बारे में समझ जाएंगे, तब उन्हें विश्वास होगा कि यह योजना न सिर्फ युवाओ के लिए बल्कि राष्ट्र और तीनों भारतीय सेनाओं के लिए फायदेमंद है।