फ्री मोबाइल रिचार्ज के मैसेज को कत्तई न करें टच

गोरखपुर । सावधान! अगर आपके मोबाइल पर फ्री रिचार्ज के मैसेज या अननोन कॉल आए तो आप कत्तई न चूज करें आप्सन। इस समय सोशल मीडिया का का इस्तेमाल और डाटा की खपत बढ़ गई है जिसका फायदा साइबर ठग भी उठा रहे हैं। व्हाट्सएप और फेसबुक पर फ्री मोबाइल रिचार्ज के मैसेज भेज कर लोगों को जाल में फंसा कर उनकी जानकारियां चोरी कर ब्लैक मार्केट में बेची जा रही हैं। इसकी मदद से ठग रिमोट एक्सेस एप डाउनलोड करा कर खातों में सेंध लगा रहे हैं। साइबर एक्सपर्टों का कहना है कि इंटरनेट का अधिक हो या कम। फ्री का ऑफर कोई कंपनी नहीं देता है। ऐसे में सावधानी बरते। ऐसे में ई-मेल, व्हाट्सएप, फेसबुक या अन्य किसी माध्यम से फ्री रिचार्ज का ऑफर देने वाले लिंक को खोलने से परहेज करना चाहिए। राहुल कहते हैं कि इस तरह के मैसेज भेजने का मकसद दूसरे व्यक्ति की फोन नम्बर, लोकेशन, नाम और शहर जानने के लिए किया जाता है। जिसे इक_ा कर डार्क वेब में बेचा जाता है। उन्होंने बताया कि अधिकतर मैसेज में आए लिंक को खोलने पर उसमें नाम, फोन नम्बर और शहर के बारे में जानकारी मांगी जाली है। साथ ही फ्री रिचार्ज का मैसेज पांच या उससे अधिक लोगों को बढ़ाने के बाद ही आगे की प्रोसेस होने का दावा किया जाता है। साइबर एक्सपर्ट के मुताबिक फ्री के फेर में फंस कर कई लोग बिना सच्चाई जाने अपने साथ ही परिचितों की निजता को भी खतरे में डाल देते हैं। ठग फंसा कर नौ डिजिट का कोड और पिन नम्बर पूछ लेता है। इसके बाद ठग के नियंत्रण में दूसरे व्यक्ति का फोन आ जाता है। इसके बाद ठग दूसरे के ई-वॉलेट से रुपए निकाल लेते हैं
बरतें सावधानी। मैसेज या अन्य माध्यम से आए लिंक को न खोलें, गलती से लिंक खोल लिया है तो गोपनीय डिटेल न बताएं, रिचार्ज करने के लिए टेलीकॉम कम्पनी या वैध ई-वॉलेट का ही इस्तेमाल करें।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

Sorry, there are no polls available at the moment.
Back to top button
Close
Close