जंतर-मंतर पर किसानों की महापंचायत: दिल्ली जा रहे किसानों को पुलिस ने हिरासत में लिया, सिंघु-टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर पहरा

Listen to this article

 

नई दिल्ली। संयुक्त किसान मोर्चा सोमवार को एमएसपी की गारंटी समेत विभिन्न मांगों को लेकर दिल्ली के जंतर-मंतर पर किसान महापंचायत चल रही है। जहां प्रदर्शन के बाद राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा जाएगा। दिल्ली की सीमाओं पर किसानों को रोका जा रहा था, इसलिए प्रदर्शन के लिए आ रहे किसानों ने बैरिकेडिंग गिरा दी। पुलिस ने इसके बाद कई किसानों को हिरासत में ले लिया है। वहीं गाजीपुर बॉर्डर पर किसान धरने पर बैठ गए हैं। पुलिस किसानों के साथ बातचीत कर रही है।
राजधानी में प्रदर्शन को रोकने के लिए धारा 144 लागू
सुबह से ही हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश के किसानों ने महापंचायत में भाग लेने के लिए दिल्ली पहुंचना शुरू कर दिया था। हालांकि किसानों को इस महापंचायत के लिए मंजूरी नहीं मिली। दिल्ली पुलिस ने टिकरी, सिंघु और गाजीपुर बॉर्डर पर सीमेंटेड बैरिकेड्स लगाए हैं। जहां से चेकिंग के बाद ही एंट्री दी जा रही है। प्रदर्शन को देखते हुए राजधानी में धारा 144 लगाई गई है।
बहादुरगढ़ स्टेशन पर उतरे 200 किसान
अधिकतर किसानों ने दिल्ली जाने के लिए पंजाब की ओर से आने वाली ट्रेनों का इस्तेमाल किया और बहादुरगढ़ स्टेशन पर खड़ी पुलिस के सामने ही जयकारे लगाते हुए दिल्ली में आए, जहां से वे सीधे बंगला साहिब गुरुद्वारे पहुंचे। यहां पहुंचे किसान पुराने परिचितों से मिलकर मेट्रो और बसों के जरिए दिल्ली में चले गए। किसानों का कहना है कि वे दिल्ली बॉर्डर पर पक्के मोर्चा लगाने नहीं आए हैं। अभी केवल एक दिन के प्रदर्शन के लिए आए हैं, ताकि सरकार को चेताया जा सके।
सरकार ने पहले की तरह से जिद बांधी तो फिर से बोरिया बिस्तर लेकर दिल्ली में धरना शुरू करने से पीछे नहीं हटेंगे। उधर, भाकियू नेता राकेश टिकैत को हिरासत में लेकर वापस भेज दिया गया है।
जंतर-मंतर के बाहर किसानों के प्रोटेस्ट को लेकर बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है।
ड्रोन से भी रखी जा रही नजर
पुलिस इस बात को लेकर अलर्ट है कि कोई असामाजिक तत्व दिल्ली में प्रवेश न कर पाए। इसके लिए ड्रोन कैमरों की भी सहायता ली जाएगी और बॉर्डर पर लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज पर भी निगरानी रखी जाएगी। दिल्ली पुलिस के अधिकारियों ने कहा कि जैसा आदेश होगा, वैसी कार्रवाई की जाएगी।
बेरोजगारी को लेकर जंतर-मंतर पर चल रहे आंदोलन में भाग लेने दिल्ली जा रहे भाकियू नेता राकेश टिकैत व कुछ कार्यकर्ताओं को गाजीपुर बॉर्डर पर दिल्ली पुलिस ने हिरासत में ले लिया। उन्हें दिल्ली के मधु विहार थाने ले जाया गया। बाद में उन्हें पुलिस ने वापस गाजीपुर बॉर्डर पर ले जाकर छोड़ दिया। टिकैत ने कहा, ‘क्या दिल्ली में किसानों का प्रवेश बैन है?
क्या कोई हरा गमछा और चद्दर ओढक़र दिल्ली में नहीं जा सकता? केंद्र सरकार के इशारों पर काम करने वाली दिल्ली पुलिस किसानों की आवाज को नहीं दबा सकती। यह संघर्ष आखिरी सांस तक चलता रहेगा। हम रुकेंगे नहीं, हम थकेंगे नहीं, हम झुकेंगे नहीं।’ हिरासत से छूटने के बाद टिकैत ने कहा कि वह यूपी आ रहे हैं। सोमवार को दिल्ली में कार्यक्रम होगा।
बॉर्डर पर उतरकर नारे लगाए तो पुलिस ने दी दिल्ली में एंट्री
ट्रेनों से करीब 2 हजार किसान दिल्ली पहुंच चुके हैं। वहीं, रात 8 बजे गांवों के रास्ते बरनाला से पंजाब के किसानों को लेकर आई पिकअप व कारें टिकरी बॉर्डर पर पहुंचीं। किसानों ने बसों से उतरकर नारेबाजी शरू कर दी। बॉर्डर पर जाम की समस्या देख दिल्ली पुलिस ने किसानों की करीब 6 बसों, कारों व जीपों के लिए बॉर्डर खोल दिया। रात 8:30 बजे तक सैकड़ों किसान सडक़ मार्ग से भी दिल्ली में पहुंच गए।
अब दिल्ली पुलिस ने बठिंडा की तरफ से आ रही बसों की लोकेशन के हिसाब से बॉर्डर को मजबूत बैरिकेडिंग करने की तैयारी शुरू कर दी है। माना जा रहा है कि सुबह 7 बजे तक बठिंडा के किसान बहादुरगढ़ पहुंचेेंगे। पुलिस को पंजाब से वाहनों से निकले किसानों के टिकरी व झाड़ौदा बॉर्डर के साथ-साथ सोनीपत के खरखौदा सैदपुर की तरफ दिल्ली में प्रवेश करने की सूचना है।
राखी बंधवाने उतरे किसान
बठिंडा एक्सप्रेस से उतरे किसान नेता जगजीत सिंह व बिट्टू प्रधान ने कहा कि वे बहादुरगढ़ में 12-13 माह रहे हैं। यहां के लोगों से भाईचारा बन गया है। उनके परिवार की महिलाओं ने फोन कर राखी बंधवाने का आग्रह किया था। इसे निभाने के लिए बहादुरगढ़ उतरे। भाईचारे से मिलने के बाद दिल्ली पहुंचेंगे।