हरियाणा में गन्ने के रेट पर अभी फैसला नहीं-समीक्षा कमेटी की 2 बैठकें बाकी, रिपोर्ट के बाद सीएम लेंगे अंतिम निर्णय

Listen to this article

चंडीगढ़। हरियाणा में गन्ने के भाव बढ़ाने के फैसले में अभी देरी हो सकत है।। इसकी बड़ी वजह यह है कि सरकार के द्वारा बनाई गई गन्ना रेट समीक्षा कमेटी की अभी 2 बैठकें होना बाकी है। इन दोनों बैठकों के बाद ही कमेटी अपनी सिफारिशें सरकार को देगी। बताया जा रहा है कि कमेटी शुगर मिलों को घाटे से उभारने के साथ ही गन्ने के रेट को लेकर अपने सुझाव देगी।
गन्ना रेट समीक्षा कमेटी को अभी 10 दिन का और वक्त लगेगा। कमेटी के अध्यक्ष और रा’य के कृषि मंत्री जेपी दलाल ने बताया कि कमेटी की रिपोर्ट के बाद ही मुख्यमंत्री मनोहर लाल इस पर अंतिम निर्णय लेंगे। कमेटी में कृषि मंत्री जेपी दलाल के साथ साथ कृषि विशेषज्ञ और शुगरफेड के अधिकारी शामिल हैं। कमेटी की एक बैठक हो चुकी है, लेकिन उसमें कोई निर्णय नहीं लिया सका।
गन्ने के भाव को लेकर सीएम और किसान नेताओं की बैठक बेनतीजा रहने के बाद किसान और उग्र हो गए हैं। अपनी मांगों को लेकर किसान 25 जनवरी से आंदोलन को उग्र रूप देंगे। किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने 29 जनवरी को सोनीपत जिले में होने वाली केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की रैली में अर्धनग्न होकर पहुंचने की चेतावनी दी है। इधर हरियाणा सरकार ने साफ कर दिया है कि कमेटी की रिपोर्ट पर ही गन्ने के भाव बढ़ाने पर विचार किया जाएगा।
रेट पर विपक्ष कर रहा राजनीति: कृषि मंत्री
कृषि मंत्री जेपी दलाल ने कहा कि गन्ने का रेट बढ़ोतरी को लेकर विपक्ष राजनीति कर रहा है। किसानों को ऐसे राजनीति
करने वाले लोगों से बचने की उन्होंने सलाह दी। उन्होंने बताया कि गन्ना रेट बढ़ाने को लेकर कमेटी 10 दिनों में रिपोर्ट सौंप देगी। इसके बाद ही सीएम गन्ने भाव को लेकर कोई फैसला लेंगे।