शुक्रवार को ऐसे करें मां लक्ष्मी का पूजन, होगी धन की वर्षा

Listen to this article

गोरखपुर। मां लक्ष्मी की पूजा संध्याकाल में करने का विधान है। आप चाहे तो दोनों पहर में उनकी पूजा-आराधना कर सकते हैं। इस दिन ब्रह्म बेला में उठकर मां लक्ष्मी का ध्यान कर दिन की शुरुआत करें। इसके बाद गंगाजल युक्त पानी से स्नान करें। सनातन धर्म में शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी की पूजा-उपासना करने का विधान है। इस दिन माता लक्ष्मी और संतोषी की पूजा-उपासना करने से व्यक्ति के जीवन में सुख, समृद्धि और वैभव का आगमन होता है। साथ ही शुक्रवार के दिन लक्ष्मी वैभव व्रत भी किया जाता है। इस व्रत को पुरुष और महिलाएं दोनों कर सकते हैं। इस व्रत को लगातार करने का प्रावधान नहीं है। अगर किसी वजह से आप किसी शुक्रवार को पूजा नहीं कर पाते हैं, तो भी आप इसे नियमित रख सकते हैं। इस व्रत को कम से कम 11 अथवा 21 शुक्रवार जरूर करना चाहिए। व्रत पूरा होने के बाद शुक्रवार के दिन उद्यापन करें। अगर आप भी मां लक्ष्मी की कृपा पाना चाहते हैं तो शुक्रवार के दिन इन उपायों को जरूर करें।
कैसे करें मां की पूजा: मां लक्ष्मी की पूजा संध्याकाल में करने का विधान है। आप चाहे तो दोनों पहर में उनकी पूजा-आराधना कर सकते हैं। इस दिन ब्रह्म बेला में उठकर मां लक्ष्मी का ध्यान कर दिन की शुरुआत करें। इसके बाद गंगाजल युक्त पानी से स्नान करें। अब भगवान भास्कर को जल का अर्घ्य दें। तत्पश्चात, मां लक्ष्मी की पूजा लाल अथवा गुलाबी फल, फूल, धूप-दीप आदि भेंट विधि पूर्वक करें। अगर आप व्रत करना चाहते हैं, तो पंडित जी से सलाह लेकर कर सकते हैं। शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी को लाल गुलाब अवश्य भेंट करें। इससे मां शीघ्र प्रसन्न होती हैं और साधक को मनचाहा वर प्रदान करती हैं। साथ ही पूजा के समय माता को लाल रंग युक्त चूड़ी, चुनरी, श्रृंगार समाग्री अवश्य भेंट करने से भी मां की कृपा साधक बरसती है। शुक्रवार के दिन श्री लक्ष्मी नारायण पाठ करें और लक्ष्मी स्तुति भी करें। साथ ही माता रानी को खीर का भोग लगाएं। अंत में आरती अर्चना करें और इन मंत्रों का जाप करें।