यूपी में सात चरणों में होगा चुनाव, पहला चरण 10 फरवरी को, गणना 10 मार्च

Listen to this article

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब सहित पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों का ऐलान चुनाव आयोग ने कर दिया है। किसी भी राज्य में रैलियों और रोड शो के आयोजन की परमिशन नहीं होगी। इसके अलावा किसी नुक्कड़ सभा का आयोजन भी सार्वजनिक स्थानों पर नहीं किया जा सकेगा। साइकिल रैली और बाइक रैली जैसी चीजों पर भी रोक रहेगी। कई नियमों का ऐलान करते हुए मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने कहा कि उम्मीदवार ऑनलाइन नामांकन दाखिल कर सकेंगे।
्रसात चरण में होंगे पांच राज्यों के चुनाव
चुनाव आयुक्त ने कहा कि गोवा, पंजाब और उत्तराखंड में एक फेज में चुनाव होगा। यूपी में पहले चरण का चुनाव 10 फरवरी को होगा। 14 फरवरी को दूसरे चरण का चुनाव होगा।
मीडिया का चुनाव में अहम रोल
चुनाव आयुक्त ने कहा कि मीडिया का चुनाव में अहम रोल है। मीडिया हमारा दोस्त है। आपके जरिए हमारी बातें लोगों तक पहुंचती है। नियमों के उल्लंघन पर कार्रवाई की जाएगी। कोरोना नियमों का सख्ती से पालन करना अनिवार्य होगा।
नो रोड शो और जनसभा
40 लाख ही उम्मीदवार चुनाव खर्च कर पाएंगे। डिजिटल और वर्चुअल तरीके से चुनाव प्रचार होगा। पदयात्रा और रोड शो, साइकिल रैली और बाइक रैली नहीं होगी। 15 जनवरी तक इन पर रोक रहेगी। चुनाव आयुक्त ने कहा कि जीत के बाद जश्न या विजय जुलूस की इजाजत नहीं होगी। डोर टू डोर कैंपने के लिए पांच लोगों की ही इजाजत रहेगी। कोरोना गाइडलाइन का पूरी तरह से पालन किया जाएगा। किसी भी तरह के नियमों के उल्लंघन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।
यूपी में 90 फीसदी लोगों को वैक्सीन की पहली डोज
सभी चुनावकर्मियों को वैक्सीन की दोनों डोज मिल चुकी है। सभी चुनाव कर्मचारी पूरी तरह से वैक्सीनेट होंगे। गोवा और उत्तराखंड में सबसे ज्यादा वैक्सीनेशन। यूपी में 90 फीसदी लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है। पंजाब में पॉजिटिविटी रेट 2.1 प्रतिशत, उत्तराखंड में एक प्रतिशत से ज्यादा है। चुनाव आयुक्त ने कहा हम मेडिकल एक्सपर्ट्स से सलाह भी ले चुके हैं।सभी चुनाव कर्मी फ्रंटलाइन कर्मी हैं। पोलिंग बूथ पूरी तरह से सैनिटाइज होगा। पोलिंग की टाइमिंग एक घंटे से ज्यादा होगी।

वोटर को पहली बार चुनाव आयोग की पर्ची मिलेगी
चुनाव आयोग ने लोगों से ज्यादा से ज्यादा संख्या में मतदान की अपील की है। कोरोना महामारी से निकलने का यकीन जरूरी है। कोरोना गाइडलाइन के साथ ही चुनाव कराए जाएंगे। संविधान में विधानसभा का कार्यकाल सिर्फ पांच साल का है। चुनाव आयोग ने कहा समय पर चुनाव कराना हमारी जिम्मेदारी है।

उम्मीदवार ऑनलाइन नामांकन भी कर सकेंगे
चुनाव में धांधली को रोकने के लिए एप बनाया गया है। एप के जरिए उम्मीदवार ऑनलाइन नामांकन भी कर सकेंगे।एप के जरिए समस्या या शिकायत दर्ज की जाएगी। चुनाव की अधिसूचना तत्काल प्रभाव से लागू हो गई है। चुनाव नियमों के उल्लंघन पर सख्त कार्रवाई होगी
पोलिंग स्टेशनों की क्षमता 16 फीसदी बढ़ी है। गैरकानूनी पैसे और शराब पर कड़ी नजर रहेगी। सभी राजनीतिक दलों के सुविधा एप बनाया जाएगा। सभी एजेंसियों को अलर्ट पर रखा गया है।
महिला वोटरों की भागीदारी बढ़ी
1620 पोलिंग स्टेशनों पर सिर्फ महिला मतदाता कर्मी रहेंगे। पोलिंग बूथ ग्राउंड फ्लोर पर बनाए जाएंगे। हर बूथ पर 1250 मतदाता वोट डालेंगे। 80 प्लस और दिव्यांग और कोविड प्रभावित के लिए पोस्टिंग बैलेट की व्यवस्था बनेगी। उम्मीदवारों के लिए आपराधिक जानकारी देना जरूरी होगा। राजनीतिक दलों के लिए भी आपराधिक जानकारी देना अनिवार्य होगा।
24.9 लाख मतदाता की पहली बार वोट डालेंगे
मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि 5 जनवरी को मतदाता की सूची डाली गई थी। 24.9 लाख मतदाता की पहली बार वोट डालेंगे। मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि 5 जनवरी को मतदाता की सूची डाली गई थी। 24.9 लाख मतदाता की पहली बार वोट डालेंगे। यूपी में 29 प्रतिशत मतदाता पहली बार वोट डालेंगे। थर्मल स्कैनिंग, मास्क और सैनिटाइजर की पर्याप्त व्यवस्ता है। सभी पोलिंग बूथ पर व्यवस्ता की गई है। पोलिंग स्टेशन की क्षमता बढ़ाई गई है। 2 लाख 15 हजार से ज्यादा पोलिंग बूथ बनाए गए है।
18.3 करोड़ मतदाता वोट डालेंगे
केंद्र और राज्य सरकारों से खर्चे की समीक्षा की गई है। समय पर चुनाव कराए जाएंगे। 18.3 करोड़ मतदाता वोट डालेंगे।
690 विधानसभा में वोट डाले जाएंगे: मुख्य चुनाव आयुक्त
मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा प्रेस को संबोधित कर रहे हैं। मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि कोरोना में चुनाव कराना चुनौती है। कोरोना के बीच चुनाव कराना हमारा कर्तव्य है। चुनाव की तैयारियों की समीक्षा की गई है। 690 विधानसभा में वोट डाले जाएंगे।

विज्ञान भवन पहुंचे मुख्य चुनाव आयुक्त
अब से कुछ ही देर में चुनाव आयोग पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के तारीखों का ऐलान करेगा। इस कड़ी में चुनाव आयोग की टीम विज्ञान भवन पहुंच चुकी है।
निर्वाचन आयोग पहुंचे मुख्य चुनाव आयुक्त
अब से कुछ ही देर में चुनाव आयोग पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के तारीखों का ऐलान करेगा। इस कड़ी में चुनाव आयोग की टीम विज्ञान भवन पहुंच चुकी है।
पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी के परिवार के तीन सदस्य मिले पॉजिटिव
पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के परिवार के तीन सदस्य कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी। मुख्यमंत्री चन्नी की कोविड-19 की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। मोहाली की सिविल सर्जन डॉ आदर्शपाल कौर ने कहा कि मुख्यमंत्री की पत्नी कमलजीत कौर, उनका बेटा नवजीत सिंह और बहू सिमरनधीर कौर जांच में कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। डॉ आदर्शपाल कौर के मुताबिक सभी लोगों में बीमारी के मामूली लक्षण हैं और उन्हें घर में ही आइसोलेशन में रखा गया है।
पंजाब में चुनाव के ऐलान से ठीक पहले बदला डीजीपी
विधानसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान से ठीक पहले पंजाब में डीजीपी बदल गए हैं। अब आईपीएस वीके भावरा राज्य पुलिस की कमान संभालेंगे।
यूपी चुनाव की तारीखों पर होगी सभी की नजरें
देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में 403 विधानसभा सीटें हैं। साल 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा सबसे ज्यादा 312 सीटें जीतकर सत्ता पर काबिज हुई थी। जबकि 2012 में सरकार बनाने वाली समाजवादी पार्टी महज 47 सीटों पर सिमट गई थी। वहीं बसपा सिर्फ 19 सीटें ही जीत पाई थी।
यूपी में होम मिनिस्ट्री भेजेगी 225 पैरा मिलिट्री कंपनियां
यूपी में विधानसभा चुनाव संपन्न कराने के लिए होम मिनिस्ट्री ने अर्ध सैनिक बलों की 225 कंपनियों को भेजने का फैसला लिया है। आज उत्तर प्रदेश समेत 5 राज्यों में चुनाव की तारीखों का ऐलान हो सकता है। माना जा रहा है कि यूपी में 5 से 6 चरणों ही चुनाव हो सकता है।
उत्तराखंड में 15 जनवरी तक रैलियों पर रोक, आयोग भी ले सकता है फैसला
चुनाव के ऐलान से पहले उत्तराखंड सरकार ने 15 जनवरी तक राजनीतिक कार्यक्रमों और रैलियों पर रोक लगा दी है। कहा जा रहा है कि चुनाव आयोग भी रैलियों पर रोक लगाकर वर्चुअल इवेंट्स का ही आदेश जारी कर सकता है।
तारीखों का ऐलान होते ही चुनाव आयोग के हाथ होगा प्रशासन
विधानसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान होते ही राज्यों का प्रशासन चुनाव आयोग के हाथ में चला जाएगा। विकास योजनाओं के ऐलान समेत अन्य जन कल्याणकारी कोई भी घोषणा राज्य सरकार की ओर से नहीं की जा सकेंगी।