गोरखपुर: कांग्रेस ने खजनी (सु) से रजनी को बनाया प्रत्याशी

Listen to this article

विधानसभा चुनाव 2022- कांग्रेस ने जारी की 125 प्रत्याशियों की सूची

 

गोरखपुर मंडल के कुशीनगर से तमकुहीराज से लल्लू तो महराजगंज सदर (सु) आलोक प्रसाद बने प्रत्याशी
लखनऊ/गोरखपुर। उप्र विधानसभा 2022 के चुनाव में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी ने 18वीं विधानसभा के गठन के लिए प्रत्याशियों की पहली सूची जारी कर दी है। 125 प्रत्याशियों की पहली सूची में 50 महिलाओं का नाम है। जिसमें पूर्वांचल में गोरखपुर जिले के खजनी (सु) श्रीमती रजनी देवी, महराजगंज जिले से महराजगंज सदर (सु)से आलोक प्रसाद, पनियरा से शरदेन्दु पाण्डेय, फरेन्द्रा से वीरेन्द्र चौधरी व कुशीनगर के पडरौना से मनीष जायसवाल, तमकुहीराज से अजय कुमार लल्लू, देवरिया के रूद्रपुर से अखिलेश प्रताप सिंह, रामपुर कारखाना से श्रीमती शीला, भाटपाररानी से केशव चन्द यादव, बरहज से रामजी गिरी,वहीं बस्ती मंडल के बस्ती जिले रुधौली विधानसभा से कांग्रेस के प्रत्याशी बसंत चौधरी, हरैया से लबोनी सिंह वहीं सिद्धार्थनगर के डुमरियागंज विधानसभा से कांति देवी कांग्रेस की प्रत्याशी बनीं। यह सूची आज कांग्रेस की प्रियंका गांधी ने जारी की। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव तथा उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने गुरुवार को पार्टी के प्रत्याशियों की पहली सूची जारी की है। 125 प्रत्याशियों की इस सूची में 50 महिला उम्मीदवारों को टिकट दिया गया है। प्रियंका गांधी वाड्रा ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए प्रेस कॉन्फ्रेंस कर प्रत्याशियों की सूची जारी की है। माखी दुष्कर्म कांड पीड़ता की मां को कांग्रेस ने उन्नाव की सदर सीट से टिकट दिया है। उन्नाव में सदर से माखी दुष्कर्म पीडि़ता की मां आशा सिंह, मोहान से मधु रावत तथा बांगरमऊ से आरती बाजपेई को टिकट दिया गया है।
प्रियंका गांधी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी आज उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए अपनी पहली सूची जारी की है। हमने आज 125 प्रत्याशियों की जो सूची जारी की है। उसमें 50 महिलाएं हैं। हमने प्रयास किया है कि हमारा कैंडीडेट संघर्षशील और पूरे प्रदेश में नई राजनीति की पहल करने वाले प्रत्याशी हो।
प्रियंका ने कहा कि हमारी उन्नाव की प्रत्याशी उन्नाव के माखी कांड की पीडि़ता की मां हैं। हमने उनको मौका दिया है कि वे अपना संघर्ष जारी रखें। जिस सत्ता में उनकी बेटी के साथ अत्याचार हुआ। उनके परिवार को बर्बाद किया गया, अब वह वहीं सत्ता हासिल करें। हमने सोनभद्र नरसंहार के पीडि़त में से एक रामराज गोंड को भी टिकट दिया है। इसी तरह आशा बहनों ने कोरोना में बहुत काम किया, लेकिन उन्हें पीटा गया। उन्हीं में से एक पूनम पांडेय को भी हमने टिकट दिया है। सदफ जाफर ने सीएए-एनआरसी के समय बहुत संघर्ष किया था। सरकार ने उनका फोटो पोस्टर में छपवाकर उन्हें प्रताडि़त किया। मेरा संदेश है कि अगर आपके साथ अत्याचार हुआ तो आप अपने हक के लिए लड़ें। कांग्रेस ऐसी महिलाओं के साथ है। हमने प्रयास किया है कि हमारा कैंडीडेट संघर्षशील और पूरे प्रदेश में नई राजनीति की पहल करने वाले प्रत्याशी हो।