स्वामी और सैनी ने ग्रहण की सपा की सदस्यता

Listen to this article

लखनऊ। योगी आदित्यनाथ सरकार से इस्तीफा देने वाले कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ डॉ धर्म सिंह ने अपने समर्थकों के साथ शुक्रवार को सपा की सदस्यता ग्रहण की। उनके साथ भाजपा से इस्तीफा देने वाले छह विधायक भी समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए हैं। ओबीसी के कद्दावर नेता स्वामी प्रसाद मौर्य अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ सपा दफ्तर पर पहुंचे। उनके साथ पूर्व मंत्री डॉ.धर्म सिंह सैनी भी थे। इन सभी को सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने पार्टी की सदस्यता दिलाई। स्वामी प्रसाद मौर्य ने इस अवसर पर कहा कि आज भाजपा के खात्मे का शंखनाद बज गया है। भाजपा ने देश और प्रदेश की जनता को गुमराह कर उनकी आंखों में धूल झोंकी है और जनता का शोषण किया है। स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि कुछ लोग झूठे आरोप लगाकर मुझे बदनाम कर रहे हैं। भाजपा ने तो केशव प्रसाद मौर्य और स्वामी प्रसाद मौर्य के नाम का इस्तेमाल कर सरकार बनाई थी। उन्होंने कि सरकार तो दलित व पिछड़े बनाएं और मलाई खाएं सब लोग। अब यह नहीं होगा। उन्होंने 69000 शिक्षकों की भर्ती में 19000 पदों पर सामान्य वर्ग के लोगों की नियुक्ति पर सवाल उठाए। मौर्य ने कहा कि प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने अनुसूचित जाति एवं जनजाति के संवैधानिक अधिकारों को छीना है। योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री के पद पर बैठकर बंटवारे की लाइन खींची है। समाजवादी पार्टी तो अब लोहियावादियों की ही नहीं अंबेडकरवादियों की भी पार्टी बन गई। स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि भाजपा को 2017 से पहले की तरह 45 सीटों पर समेट देंगे।