सपा ने जारी की एक और सूची, 10 के नाम फाइनल, पूर्वमंत्री का टिकट कटा

Listen to this article

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2022 में लखनऊ के प्रत्याशियों की सूची जारी करने में सपा ने भाजपा से बाजी मार ली है। समाजवादी पार्टी ने मंगलवार को दस प्रत्याशियों की सूची जारी की है। जिसमें लखनऊ के साथ उन्नाव, रायबरेली, बांदा और सुलतानपुर के उम्मीदवारों के नाम हैं। बक्शी का तालाब से पूर्व मंत्री गोमती यादव, लखनऊ पश्चिम से अरमान, लखनऊ उत्तर से पूजा शुक्ला, लखनऊ पूर्वी से अनुराग भदौरिया, लखनऊ मध्य से पूर्व मंत्री रविदास मेहरोत्रा और लखनऊ के कैंट से राजू गांधी को प्रत्याशी बनाया है। लखनऊ उत्तरी से विधायक रहे पूर्व मंत्री अभिषेक मिश्रा को पार्टी ने इस बार प्रत्याशी नहीं बनाया है। सपा ने लखनऊ उत्तर से अभिषेक मिश्र व पश्चिम से मोहम्मद रेहान का टिकट काटा है।
अखिलेश यादव ने सभी दावेदारों के साथ सोमवार शाम बैठक कर प्रत्याशियों की सूची मंगलवार को जारी कर दी।
लखनऊ में सपा ने गोमती यादव और रविदास को दोबारा बनाया प्रत्याशी, पूर्व मंत्री अभिषेक मिश्र का टिकट काटा। सपा ने 2017 का चुनाव हारने वाले गोमती यादव और पूर्व मंत्री रविदास मेहरोत्रा और अनुराग भदौरिया को दोबारा मौका दिया है। लखनऊ पश्चिम से पूर्व विधायक रेहान अहमद का टिकट कट गया है। उत्तर से पूर्व मंत्री अभिषेक सिंह का टिकट कटा है। लखनऊ पश्चिम से बसपा छोडक़र आये अरमान खान को उतारा गया है। इस सीट पर अरमान खान 2017 में बसपा से लड़े थे। लखनऊ उत्तर से पूजा शुक्ला को टिकट दिया गया है। लखनऊ पूर्वी विधानसभा सीट से पार्टी ने अनुराग भदौरिया को टिकट दिया। अनुराग भदौरिया 2017 के चुनाव में सपा कांग्रेस गठबंधन में कांग्रेस के सिम्बल पर लड़े थे और भाजपा के आशुतोष टंडन से हार गए थे। लखनऊ मध्य में पूर्व मंत्री रविदास मेहरोत्रा 2017 के चुनाव में इसी सीट से भाजपा के ब्रजेश पाठक से करीब पांच हजार वोटों से चुनाव हार गए थे।
समाजवादी पार्टी ने उन्नाव के बांगरमऊ से मुन्ना अल्वी, रायबरेली के बछरावां सुरक्षित से श्याम सुंदर भारती, सुलतानपुर से इसौली से ताहिर खान और बांदा के बबेरू से विशंभर यादव को प्रत्याशी बनाया है। समाजवादी पार्टी ने बांदा जिले की चार में तीन विधान सभा सीटों पर प्रत्याशी पहले ही घोषित कर दिए थे, जबकि बबेरू सीट (233) पर मंथन चल रहा था। मंगलवार को सपा ने पूर्व विधायक विशंभर सिंह यादव पर भरोसा जताया और प्रत्याशी घोषित किया है।समाजवादी पार्टी इस बार चुनाव में राष्ट्रीय लोकदल, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी, प्रगतिशील समाजवादी पार्टी, अपना दल कमेरावादी, महान दल तथा अन्य छोटे दलों के साथ गठबंधन कर मैदान में उतरी है।