गंगा द्वार से धाम में 16 से प्रवेश शुरू

Listen to this article

 

वाराणसी। काशी विश्वनाथ धाम के गंगा द्वार से श्रद्धालुओं का प्रवेश 16 फरवरी से शुरू हो जाएगा। जलासेन घाट पर बनी सीढिय़ों के जरिए भक्त बाबा धाम में पहुंचेंगे। वहां मंदिर चौक होते हुए सरस्वती फाटक के पास चेकिंग कराने के बाद उन्हें गर्भगृह परिसर में प्रवेश कराया जाएगा। मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल ने गुरुवार को इस सम्बंध में मंदिर प्रशासन व कार्यदायी एजेंसी को तैयारी करने का निर्देश दिया है। उन्होंने बताया कि गंगा के किनारे जेटी निर्माण का कार्य पूरा हो गया है। प्रवेश द्वार व सीढिय़ां भी तैयार कर ली गयी हैं। केवल रैम्प बिल्डिंग का काम अधूरा है। जिसके निर्माण तेजी से चल रहा है। बताया कि 16 फरवरी से गंगा द्वार को आम भक्तों को खोल दिया जाएगा। गंगा से मंदिर चौक तक पहुंचने के लिए अभी केवल आने-जाने का कार्य शुरू किया जाएगा। आसपास के अन्य सभी भवनों में अभी प्रवेश नहीं होगा। केवल मंदिर चौक व गैलरी में विश्राम करने के लिए रोका जाएगा। वाराणसी गैलरी, म्यूजियम, कैफे, वैदिक विज्ञान केंद्र सहित अन्य सभी भवनों का आवंटन आचार संहिता के कारण नहीं हुआ है। लिहाजा, केवल भक्तों को आवागमन के लिए व्यवस्था की गयी है। मंडलायुक्त ने बताया कि घाट से मंदिर चौक तक श्रद्धालु अपने सामान, मोबाइल व कैमरा आदि ले जा सकेंगे। मोबाइल, कैमरा आदि सामान रखने के लिए गंगा द्वार से चौक तक अलग-अलग स्थानों पर व्यवस्था की जाएगी। मंदिर चौक से भक्त सरस्वती फाटक के पास चेकिंग प्वाइंट से मंदिर परिसर में प्रवेश करेंगे। यहां बाबा का दर्शन करने के बाद मंदिर परिसर के पूर्वी गेट से निकासी करेंगे।