कुशीनगर हादसा: मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख रुपये मुआवजे का एलान

Listen to this article

राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री तथा मुख्यमंत्री ने जताया शोक

घायलों का मुफ्त इलाज

कुशीनगर। उत्तर प्रदेश के कुशीनगर के नौरंगिया टोला गांव में बुधवार रात हादसे में मृतकों की संख्या 13 हो गई है। जिला प्रशासन ने इस हादसे में मृतक आश्रितों को चार-चार लाख रुपया आर्थिक सहायता देने की घोषणा करने के साथ घायलों के निशुल्क इलाज की भी व्यवस्था की है। इसके साथ ही कुंआ में एसडीआरएफ की टीमें अभी भी शवों की तलाश में हैं।
कुशीनगर के जिलाधिकारी एस राजलिंगम ने बताया कि कुशीनगर के नौरंगिया टोला गांव में बुधवार रात स्लैप से ढका पुराना कुआं पर हो रहे पूजा-पाठ के दौरान वहां पर बच्चे और महिलाएं बैठे हुए थे। इस दौरान स्लैप नीचे चला गया और मलबा उनके ऊपर गिर गया। 13 लोगों की मौत हुई है और तीन लोगों की हालत गंभीर है। प्रत्येक मृतक के परिवार के लोगों को चार-चार लाख रुपए आर्थिक सहायता दी जाएगी।

एडीजी गोरखपुर जोन अखिल कुमार भी कुशीनगर में कैंप कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि मौके पर राहत कार्य जारी है। एसडीआरएफ की टीमों का कुंआ में तलाशी अभियान जारी है। मृतकों में महिलाओं के साथ बालक व बालिकाएं भी हैं। घटना के समय सभी लोग एक परिवार में हल्दी की रस्म के उत्सव में चल रहा डांस देख रहे थे। कई थानों की पुलिस ने रेस्क्यू आपरेशन कर घायलों व शवों को बाहर निकाला। बताया जा रहा कुंए में दो-ढाई फीट तक पानी था। एक के ऊपर एक गिरने से हादसा गंभीर हो गया।कुशीनगर हादसे के मृतकों के परिवार के लोगों को दो-दो लाख रुपया और घायलों को 50-50 हजार की सहायता पीएम रिलीफ फंड से दी जाएगी। जिला प्रशासन से मृतकों के परिवार के लोगों को दो-दो लाख रुपया तथा घायलों को 50-50 हजार की सहायता मिलेगी। राषट्रपति रामनाथ कोविंद के साथ ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल तथा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे पर अपनी संवेदना व्यक्त की है।

नौरंगिया के स्कूल टोला निवासी परमेश्वर कुशवाहा के पुत्र का गुरुवार को विवाह है। वैवाहिक रस्म के क्रम में महिलाएं हल्दी की रस्म अदायगी के दौरान गांव में स्थित कुआं पर मटकोड़ करने गई थीं। उनके साथ बच्चे भी गए थे। इसके बाद कुआं पर बने स्लैब पर खड़े होकर डांस देखने लगे। इस बीच स्लैब टूटकर कुएं में गिर पड़ा, जिससे उस पर सवार बच्चे समेत महिलाएं कुएं में गिरकर दब गए। घटना की सूचना मिलते ही कोहराम मच गया। सब लोग घटनास्थल की ओर दौड़ पड़े। पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से रेस्क्यू कर सबको बाहर निकाला। इसमें डेढ़ घंटे लग गए और तब तक काफी देर हो चुकी थी। 11 घायलों को जिला अस्पताल लाया गया, जहां उनको मृत घोषित कर दिया गया। उधर कोटवा सीएचसी में भर्ती दो बच्चों ने भी दम तोड़ दिया।

राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री तथा मुख्यमंत्री ने जताया शोक : राष्ट्रपति, रामनाथ कोविंद ने कहा कि उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में हुए हादसे में महिलाओं और बच्चों समेत कई लोगों की मृत्यु का दु:खद समाचार सुनकर व्यथित हूं। इस दर्दनाक हादसे में अपने परिवार के लोगों ïको खोने वाले सभी शोक-संतप्त परिवारों के प्रति मेरी गहन संवेदनाएं। मैं घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में हुआ हादसा हृदयविदारक है। इसमें जिन लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है, उनके परिजनों के प्रति मैं अपनी गहरी संवेदनाएं व्यक्त करता हूं। इसके साथ ही घायलों के जल्द से जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं। स्थानीय प्रशासन हर संभव मदद में जुटा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कुशीनगर के ग्राम नौरंगिया स्कूल टोला की एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना में हुई ग्रामवासियों की मृत्यु अत्यंत दु:खद है। मेरी संवेदनाएं मृतकों के शोक संतप्त परिजनों के साथ हैं। प्रभु श्री राम से घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना है।

कुशीनगर से सांसद रहे पूर्व केन्द्रीय मंत्री आरपीएन सिंह ने कहा कि गृह जनपद कुशीनगर के नौरंगिया में हल्दी की रस्म के दौरान कुएं पर लगी स्लैब अचानक टूट जाने से 13 महिलाओं और लड़कियों के मृत्यु की हृदय विदारक घटना से मन अत्यंत मर्माहत है। मृतकों के परिवारों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं एवं घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।

सीएमएस डा एसके वर्मा ने बताया कि पांच से 25 वर्ष के 11 लोगों सहित दो महिलाओं की मौत हो गई है। अन्य घायलों का इलाज चल रहा है। डीएम एस राजलिंगम व एसपी सचिन्द्र पटेल ने बताया कि इस लोमहर्षक घटना से सभी स्तब्ध हैं। जांच कराई जा रही है।