गंगा में उफान से घाटों का संपर्क कटा, बलिया में चेतावनी बिन्दु के ओर बढ़ा जलस्तर

Listen to this article

वाराणसी। गंगा के जलस्तर में बढ़ाव की रफ्तार कम नहीं हो रही है। वाराणसी में घाटों के सम्पर्क आपस में टूट गए हैं। अब पलट प्रवाह का खतरा भी मंडराने लगा है। तीन सेमी प्रतिघंटे की रफ्तार से गंगा में बढ़ाव जारी है। हालांकि गंगा का जलस्तर अभी चेतावनी बिंदु से पांच मीटर से ज्यादा नीचे है। वहीं बलिया में गंगा पेटे से बाहर आ गई हैं। यहां चेतावनी बिंदु के करीब जलस्तर पहुंच रहा है। जलस्तर में लगातार बढ़ाव को देखते हुए जिला प्रशासन भी सतर्क हो गया है। जिलाधिकारी ने शुक्रवार को बाढ़ स्टेयरिंग कमेटी की बैठक बुलाई है। जिसमें बाढ़ से बचाव की तैयारियों की समीक्षा और आगे की रणनीति तय होगी। जल आयोग के मुताबिक गुरुवार की रात 8 बजे तक गंगा का जलस्तर 64.94 पर पहुंच गया था। पिछले 24 घंटे में 95 सेमी जलस्तर बढ़ा। ऐसे ही वृद्धि जारी रही तो अगले चार से पांच दिन में वरुणा में पलट प्रवाह शुरू हो जाएगा।
दो वर्ष पूर्व 68 मीटर जलस्तर पहुंचने पर वरुणा में पानी उलटा घुसने लगा था। इसके बाद पूरे इलाके में बाढ़ आ गई थी। इस वर्ष भी जलस्तर की वृद्धि को देखते हुए हफ्ते के अंत तक वरुणा में बाढ़ की आशंका गहराने लगी है। इसे देखते हुए बड़ी आबादी के प्रभावित होने की आशंका काफी बढ़ गई है। उधर, घाटों पर लगातार सख्ती के बावजूद नाविक नाव लेकर नदी में उतर रहे हैं। जबकि पुलिस कमिश्नरेट की ओऱ से गंगा में नौका संचालन पर रोक लगा दी गई है।