विकास के बल पर हमने आजमगढ़ की बदली पहचान: सीएम योगी

Listen to this article

आजमगढ़। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गुरुवार को आजमगढ़ आइटीआइ मैदान में 143 करोड़ की 50 परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यह जिला ऋ षियों-मुनियो व साहित्यकारों की धरती रही है, लेकिन राजनीतिक संकीर्णता के कारण यहां की प्रतिभाओं को आगे बढऩे का मौका नहीं मिला। यहां पहचान ऐसी बन गई थी कि कहीं बाहर जाने पर उसे छिपाना पड़ता था, क्योंकि बाहर जाने पर आजमगढ़ के नाम पर कहीं रहने के लिए कमरा नहीं मिलता था। हमने विकास के बल पर जिले की पहचान बदल दी है।
मुख्यमंत्री आइटीआइ मैदान में गुरुवार को आयोजित सभा में बोल रहे थे। लोकसभा उप चुनाव में दिनेश लाल यादव निरहुआ विजयी बनाने के लिए जनता का हृदय से जताया आभार जताने के बाद उन्होंने कहा कि जिले से हमारे सांसद-विधायक भले न जीते हों, लेकिन हमने विकास के मामले में भेदभाव नहीं किया। जिले को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे दिया, जिससे अब दो घंटे में लखनऊ का सफर तय किया जा सकता है। जिले के लोगों का सपना था कि यहां विश्वविद्यालय का निर्माण, जिसे हमने पूरा कर दिया और उसका नाम महाराजा सुहेलदेव विश्वविद्यालय रखा। हस्त शिल्पियों को कम ब्याज पर ऋण उपलब्ध कराया। पांच लाख नौजवानों को बिना भेदभाव के नौकरी दी, तो 1.65 करोड़ नौजवानों के लिए रोजगार की संभावनाएं बढ़ाई हैं। ओडीओपी प्रोडक्ट के लिए कामन फैसिलिटी सेंटर दिया।
उन्होंने कहा कि विकास परियोजनाओं को आगे बढ़ाने से ही देश व समाज में खुशहाली आएगी। यहां के जनप्रतिनिधियों ने भी कई प्रस्ताव दिए हैं, जिस पर काम होगा। मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन से कहा कि एक ऐसा प्रस्ताव बनाएं जिससे ब्लैक पाटरी से ज्यादा से ज्यादा लोगों को रोजगार का अवसर मिले। सांसद भी डीएम के साथ बैठक करके रोजगार और विकास की रणनीति को जमीन पर उतारें।