युवक के अपहरण के तीन आरोपी अरेस्ट: 5अगस्त को जिम करने गए ज्वाला का सिंघडिय़ा से कार सवार चार युवकों ने किया था अपहरण, पुलिस के दबाव बनाने पर आधे घंटे में सहारा स्टेट के पास छोडक़र भागे थे अपहरणकर्ता

Listen to this article

गोरखपुर। कैंट पुलिस ने सोमवार को युवक के अपहरण के तीन आरोपियों को अरेस्ट कर लिया। पुलिस ने तीनों को मुखबिर की सूचना पर प्रदूषण चौराहे से पकड़ा। पकड़े गए आरोपियों में एक नामजद आरोपी विकेश शुक्ला निवासी पालन कुंडा थाना गौरीबाजार जिला देवरिया है जो वर्तमान में उचवा झरना टोला शाहपुर में रहता है। वहीं पुलिस ने विवेचना के दौरान पकड़े गए नामजद आरोपी विकेश से पूछताछ और सीसीटीवी फुटेज से पहचान के आधार पर उसके दो साथियों अंशुमान गौड़ और शिवम सिंह निवासी आवास विकास कालोनी कूड़ाघाट थाना कैण्ट को पकड़ा है। पुलिस ने अरेस्ट तीनों आरोपियों को कोर्ट में पेश कर जेल भिजवा दिया ।

वहीं फरार मुख्य आरोपी व दवा विके्रता सचिन यादव निवासी कूड़ाघाट की तलाश में जुटी है। पुलिस उसपर इनाम घोषित करने की तैयारी में है।

एसपी सिटी कृष्ण कुमार विश्रोई व सीओ कैंट श्यामदेव बिंद ने बताया कि 12 जुलाई 2022 को सिंघडिय़ा माडलशाप पर रात 11 बजे ब्लैक शराब लेने की बात को लेकर मारपीट हुई थी। जिसमें माडल शाप के मैनेजर महराजगंज के शक्तिधर सिंह की तहरीर पर पुलिस ने आरोपी सिंघडिय़ा निवासी ज्वाला निषाद पुत्र लल्लन के खिलाफ केस दर्ज कर उसे अरेस्ट कर जेल भिजवाया था। बीते २ अगस्त 2022 को ज्वाला जेल से छूटकर आया था। उधर ज्वाला 5 अगस्त 2022 की शाम को घर के पास ही एक जिम में कसरत करने रोजाना की तरह गया था। वहीं से कार सवार चार युवकों ने उसका अपहरण कर लिया था। जांच में पता चला कि अपहरण में सचिन यादव का हाथ है तो इंजीनियरिंग कालेज चौकी इंचार्ज उसके घर पहुंचे और सचिन के पिता पर दबाव बनाया तो अपहरणकर्ता ज्वाला को सहारा स्टेट के पास छोडक़र फरार हो गए थे। जिसके बाद पुलिस ने अपह्त ज्वाला को बरामद कर लिया था। जिसके बाद पुलिस ने ज्वाला निषाद की तहरीर पर सचिन यादव, विकेश शुक्ला समेत चार लोगों पर केस दर्ज किया था और आरोपियों की तलाश में जुटी थी। सोमवार को कैं ट इंस्पेक्टर शशिभूषण राय, चौकी इंचार्ज अमित कुमार चौधरी, दरोगा अखिलेश कुमार, सिपाही अंकित कुमार, राजेश सिंह व वैभव श्रीवास्तव की टीम ने तीन आरापियों को अरेस्ट कर लिया।

सचिन के ही कार से हुआ था अपहरण
एसपी सिटी ने बताया कि जिस कार से ज्वाला का अपहरण हुआ था वह आरोपी सचिन की ही थी। एसपी सिटी ने बताया कि अपहरण में जो असलहा प्रयोग हुआ था वह सचिन यादव ही लेकर आया था और वर्तमान में वह असलहा व गाड़ी उसके ही पास ही है। पुलिस के अनुुसार चूंकि ज्वाला भी शरीर से तंदरूस्त है लिहाजा जब आरोपी विकेश शुक्ला ने उसे असलहा सटाया तो वह उससे भिड़ गया। उल्टे असलहे को विकेश की तरफ मोड़ दिया था। जिसके बाद अंशुमान व शिवम भी ज्वाला से भिड़ गए और जबरन गाड़ी में बैठा लिया था। पूरी घटना पास के एक सीसीटीवी फुटेज में भी कैद हुई थी जिसके आधार पर दोनों की पहचान हुई।

माडल शाप पर मारपीट में सचिन भी हुआ था घायल, बदला लेने को कराया अपहरण
पुलिस के अनुसार 12/ जुलाई 2022 को माडल शाप पर जो मार पीट हुई थी उसमें सचिन यादव भी शामिल था। उसके सिर एवं अंगुली में चोट लगी थी। जिस कारण सचिन यादव परेशान था एंव शराब का नशा करता है। शराब के नशे में वह बदला लेना चाहता था । उसी ने अंशुमान व विकेश को बुलाया और ज्वाला को सबक सिखाने की बात कही थी, बताया था कि ज्वाला जेल से छूट गया है। ज्वाला निषाद जब जेल से छुटा था तो जेल से रिहा होने पर उसके हाथ पर रिहाई की मोहर लगी हुई थी। उसने अपने व्हाटसएप स्टेटस पर हाथ के फोटो का स्टेटस लगाकर लिखा था कि जेल से छुटकर आया हूँ अब जो होगा देखा जायेगा। उसके स्टेटस को देखकर सचिन बदला लेने के लिए परेशान था ।