गढ़वाल में भारी बारिश ने मचाई तबाही, तेज सैलाब में बहीं आठ दुकानें; 129 सडक़ें-17 स्टेट हाइवे बंद

Listen to this article

 

उत्तराखंड। गढ़वाल में भारी बारिश ने तबाही मचाई है। रवांई घाटी, जौनसार बावर और गैरसैंण के आगरचट्टी में घरों, दुकानों और खेत-खलियानों को नुकसान पहुंचा है। बारिश के साथ आए सैलाब में 13 से ज्यादा आवासीय मकान और आठ दुकानें क्षतिग्रस्त हुई हैं। टौंस और यमुना का जल स्तर बढऩे से छह बिजली परियोजनाएं भी बुधवार मध्य रात्रि से ठप पड़ी हैं। पुरोला के कुमोला खड्ड में बुधवार देर रात आए सैलाब में एटीएम समेत आठ दुकानें बह गईं। कई दुकानें और आवासीय मकान भी यहां खतरे की जद में आए गए हैं। तहसीलदार शीशपाल सिंह असवाल ने बताया कि सैलाब में पीएनबी का एटीएम भी बह गया। इसमें 24.50 लाख रुपये कैश था। इधर, बडक़ोट के देवल गांव में भू-धंसाव से चार मकान खतरे की जद में आ गए हैं। कालसी ब्लॉक के मसराड़ गांव में प्राइमरी स्कूल, अनाज संग्रहण केंद्र, दुकान, आटा चक्की मलबे में दब गए। गैरसैंण के आगरचट्टी में उफान से आए गदेरे ने तीन मकान धराशायी कर दिए। दस मकानों में मलबा घुसने से नुकसान पहुंचा है।
बारिश से 129 सडक़ें बंद
उत्तराखंड में हो रही बारिश की वजह से 129 सडक़ें बंद हो गई। लोनिवि के प्रमुख अभियंता अयाज अहमद ने बताया कि सडक़ों को खोलने के लिए 150 जेसीबी मशीनों को लगाया गया है। राज्य में 17 राज्य मार्ग प्रमुख रूप से बंद हैं। इन्हें खोलने के प्रयास किए जा रहे हैं।